बकोरिया कांड का सच-08: जेजेएमपी ने मारा था नक्सली अनुराग व 11 निर्दोष लोगों को, पुलिस का एक आदमी भी था साथ ! (देखें वीडियो)

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 01/02/2018 - 07:59

Manoj Dutt Dev
Latehar:
आठ जून 2015 को पलामू के सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया में नक्सली अनुराग व 11 निर्दोष लोगों की हत्या झारखंड जन मुक्ति परिषद (जेजेएमपी) के उग्रवादियों ने की थी. 12 लोगों की नृशंस हत्या में पुलिस का एक आदमी भी था. जिसे जेजेएमपी के उग्रवादी भैया जी के नाम से जानते हैं. घटना के ढ़ाई साल बाद न्यूज विंग को छह वीडियो क्लिप मिले हैं. वीडियो क्लिप करीब डेढ़ साल पुरानी 06-07 जुलाई की है. वीडियो देखने से पता चलता है कि किसी जन अदालत का है. टीपीसी के उग्रवादियों ने जन अदालत लगाया था. वीडियो में टीपीसी के हथियारबंद उग्रवादी चहलकदमी करते दिखते हैं. टीपीसी के उग्रवादियों ने जेजेएमपी जोनल कमांडर गोपाल सिंह को पकड़ा था. उसका हाथ बांध कर जन अदालत में पेश किया गया था. टीपीसी के उग्रवादियों ने मीडिया के लोगों को बुलाकर गोपाल सिंह का बयान दिलवाया था. गोपाल सिंह कितना सच बोल रहा है और कितना झूठ, यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा. पर, बकोरिया में हुए मुठभेड़ पर उठ रहे सवालों के मद्देनजर यह वीडियो महत्वपूर्ण है. टीपीसी के उग्रवादियों ने गोपाल सिंह को चेतावनी देने के बाद छोड़ दिया था. जिसके कुछ दिन बाद लातेहार पुलिस ने गोपाल सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. गोपाल सिंह अभी भी लातेहार जेल में है. 

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-02ः-चौकीदार ने तौलिया में लगाया खून, डीएसपी कार्यालय में हुई हथियार की मरम्मती !

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-03- चालक एजाज की पहचान पॉकेट में मिले ड्राइविंग लाइसेंस से हुई थी, लाइसेंस की बरामदगी दिखाई ईंट-भट्ठे से

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-04-मारे गये 12 लोगों में दो नाबालिग और आठ के नक्सली होने का रिकॉर्ड नहीं


टीपीसी में शामिल होने वाला था अनुराग, सबको मार कर 12-14 लाख ले गया पप्पू लोहरा


वीडियो में बंधक बने जेजेएमपी के उग्रवादी गोपाल सिंह कह रहा है कि नक्सली अनुराग जेजेएमपी के पप्पू लोहरा को टीपीसी का सरदार जी समझ कर बात कर रहे थे. वह समझ रहे थे कि वह सरदार जी से बात कर रहे हैं, लेकिन बात पप्पू लोहरा से हो रही थी. नक्सली अनुराग टीपीसी संगठन में आने की तैयारी में थे. वहां से आये. कोई पुलिस विभाग का है. भैया, भैया बोलता है उसको. नाम नहीं जानते हैं. वह भी था पप्पू लोहरा के साथ. माओवादी डॉक्टर का टीम आया तो, वहां पर मेरा संगठन जेजेएमपी के लोग पहुंचा. डॉक्टर अनुराग ने बोला कि सरदार जी किधर है. तब उनसे कहा कि घर में हैं. तब घर में ले गए. वहां पर अनुराग के टीम को पकड़ लिया गया. अनुराग ने जेजेएमपी के लोगों को पहचान लिया. तब कहा कि भैया नहीं मारियेगा. नहीं मारेंगे. पर सबके हथियार लेकर सबको मार दिया. मारने के बाद कुछ पैसा था, जो भी 12-14 लाख रुपया कोई साथी लेकर हट गया. बाद में पता चला कि पप्पू लोहरा को पैसा मिला. वहां से सभी को मार कर जब हटा, तब प्रशासन जुटा. प्रशासन ने केस लिया कि हम लोग इनकाउंटर किए.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-05- स्कॉर्पियो के शीशा पर गोली किधर से लगी यह पता न चले, इसलिए शीशा तोड़ दिया

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड- हाई कोर्ट के आदेश पर हेमंत टोप्पो व दारोगा हरीश पाठक का बयान दर्ज


अब यह सवाल उठता है
-    क्या हथियारों से लैस टीपीसी के उग्रावादियों की जन अदालत में जेजेएमपी का जोनल कमांडर गोपाल सिंह सच बोल रहा है.
-    जेजेएमपी के उग्रवादियों के साथ पुलिस का आदमी, जिसे वे लोग भैया जी कहते हैं, कौन है.
-    अगर गोपाल सिंह सच कह रहा है, तो क्या पलामू पुलिस की जेजेएमपी के उग्रवादियों के साथ सांठ-गांठ है.
-    पलामू के तत्कालीन डीआइजी हेमंत टोप्पो के बयान के मुताबिक डीजीपी डीके पांडेय ने उन्हें फोन करके मुठभेड़ होने की बात बतायी थी, तब पलामू व लातेहार के एसपी और सतबरवा थाना के प्रभारी ने मुठभेड़ से इंकार किया था. आखिर जेजेएमपी के साथ हुए मुठभेड़ की जानकारी स्थानीय पुलिस (थाना से लेकर एसपी तक) से पहले डीजीपी को कैसे मिली.
-    कथित मुठभेड़ की घटना के ढ़ाई साल बीतने के बाद भी सीआइडी इसकी जांच पूरी नहीं कर सकी है. जांच मे तेजी लाने वाले अफसर बदल दिये गये. तो क्या इसके पीछे कोई बड़ा दबाव काम कर रहा है.
-    क्या मामले की जांच कर रही सीआइडी की टीम इस वीडियो और जेजेएमपी के जोनल कमांडर गोपाल सिंह के बयान की सच्चाई जांच करेगी.  
-    अगर जेजेएमपी ने नक्सली अनुराग और 11 बेकसूर लोगों की हत्या की थी, तब पुलिस ने इसे क्यों मुठभेड़ बताया. वह भी तब जब पुलिस के ही अधिकारी ऐसा करने के पक्ष में नहीं थे. क्या यह सब एक उच्च स्तरीय साजिश के तहत किया गया.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड-सीआईडी को दिए बयान में ग्रामीणों ने कहा, कोई मुठभेड़ नहीं हुआ, जेजेएमपी ने सभी को मारा

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-07ः कथित मुठभेड़ स्थल पलामू में, मुठभेड़ करने वाला सीआरपीएफ लातेहार का और लातेहार एसपी को सूचना ही नहीं

Special Category
Main Top Slide
City List of Jharkhand
loading...
Loading...