कहां फरियाद लगाए जनता? काम नहीं आया जनसंवाद में सीएम का आदेश, केस को कागजी कवायद ने उलझाया

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 06/06/2018 - 11:57

Hazaribagh: समस्याओं का वक्त पर निपटारा नहीं होने से परेशान जनता इस उम्मीद के साथ सीएम जनसवांद में पहुंचती है कि शायद अब सुनवाई होगी लेकिन वाकई ऐसा नहीं हो रहा.लोगों की समस्याओं का समाधान करने के लिए शुरू किया गया मुख्यमंत्री जनसंवाद में दिया गया आदेश भी कई मामलों में काम नहीं आ रहा है. फाइलों की कागजी कवायद में मामले का ऐसा उलझा दिया जाता है कि आदेश बेअसर हो जाता है. ऐसा ही मामला हजारीबाग में सामने आया है जो शहर के टाउन हाॅल के बगल स्थित नगरपालिका मार्केट में प्रतीक रामरायका के नाम से आवंटित जमीन का है. रामरायका ने इस मामले को मुख्यमंत्री जनसंवाद में उठाया जिसकी सुनवाई के बाद मुख्यमंत्री ने उस जमीन पर कार्य शुरू करने का आदेश 30 जनवरी 2018 को दिया था.इसमें 14 फरवरी 2018 तक कार्य शुरू करने का समय दिया गया था. कार्य शुरू नहीं करने की स्थिति में आवंटन को रद्द करने का आदेश भी दिया गया था. मुख्यमंत्री का यह आदेश अमल नहीं किया गया. जिसके आलोक में प्रतीक रामरायका ने उपायुक्त से भेंट कर कार्य शुरू करने का अनुरोध किया. डीसी ने नगर निगम के जेई से आंवटित जमीन पर लेआउट कर कार्य शुरू करने का निर्देश दिया. काम सुरू होते ही कुछ लोगों द्वारा इसे रोक दिया गया इसकी लिखित जानकारी शिकायतकर्ता ने तीन फरवरी को डीसी को दी. डीसी ने दोनों पक्षों से बातचीत के बाद रामरायका को कुछ दिन रूकने का निर्देश दिया

इसे भी पढ़ेंः देखें वीडियोः सरकार को कोसते रहे विपक्ष के विधायक और सुन कर हामी भरते रहे मंत्री रणधीर सिंह

निगम ने बैक डेट से जारी किया पत्र 

nigam
निगम ने बैक डेट से जारी किया पत्र 

कार्य शुरू करने का आदेश नहीं मिलने पर डीसी के साथ-साथ जनसंवाद में भी इस मामले की जानकारी आवेदक द्वारा दी जाती रही. बताया जाता है कि दो माह बीतने के बाद नगर निगम के कार्यपालक पदाधिकारी ने बैक डेट से एक पत्र 6 फरवरी 2018 के डेट से जारी कर उक्त जमीन पर निर्माण कार्य शुरू करने का आदेश दिया. इसी पत्र को आधार बनाकर कहा गया है कि आवेदनकर्ता ने नोटिस लेने से इनकार कर दिया और फोन करने पर नहीं आया. इधर आवेदक काम शुरू कराने के लिए नगर निगम समेत डीसी आॅफिस का चक्कर लगाता रहा. जन संवाद से नोटिस के बाबत कार्यपालक पदाधिकारी से साक्ष्य मांगा गया है 

घर पर चिपकाया था नोटिस- कार्यपालक पदाधिकारी 

इधर कार्यपालक पदाधिकारी का कहना है कि कार्य शुरू करने का नोटिस नहीं लेने पर घर पर चिपका दिया गया था .नोटिस देने की प्रक्रिया का पालन नहीं करने के सवाल पर उन्होंने चुप्पी साध ली.  

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

डीबीटी की सोशल ऑडिट रिपोर्ट जारी, नगड़ी में 38 में से 36 ग्राम सभाओं ने डीबीटी को नकारा

इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद रामो बिरुवा की मौत

मैं नरेंद्र मोदी की पत्नी वो मेरे रामः जशोदाबेन

दुनिया को 'रोग से निरोग' की राह दिखा रहा योग: मोदी

स्मार्ट मीटर खरीद के टेंडर को लेकर जेबीवीएनएल चेयरमैन से शिकायत, 40 फीसदी के बदले 700 फीसदी टेंडर वैल्यू तय किया

मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने निजी कारणों से दिया इस्तीफा

बीसीसीआई अधिकारियों को सीओए की दो टूकः अपने खर्चे पर देखें मैच

टीटीपीएस गाथा : शीर्ष अधिकारी टीटीपीएस को चढ़ा रहे हैं सूली पर, प्लांट की परवाह नहीं, सबको है बस रिटायरमेंट का इंतजार (2)

धोनी की पत्नी को आखिर किससे है खतरा, मांग डाला आर्म्स लाइसेंस

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म