जिप सदस्य प्रियंका का डीडीसी के नाम खुला खत - अब मैं चुप नहीं बैठूंगी....

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 01/25/2018 - 15:04

Hazaribagh : हजारीबाग  की जिला परिषद सदस्य प्रियंका ने डीडीसी के नाम एक खुला एक लिखा है. खत में प्रियंका की लिखी बातों से जिला परिषद में हुए किसी बड़े घोटाले की बू आ रही है. हालांकि प्रियंका ने हजारीबाग के डीडीसी के नाम लिखे खत को सोशल मीडिया पर भी डाल दिया है. जिससे अब नयी बहस छिड़ गयी और साथ ही खत ने अब कि सवालों को भी जन्म दे दिया है.

इसे भी पढ़ें - जंबो जेट खुद उड़ाकर दिल्ली पहुंचे 71 वर्षीय ब्रूनेई के सुल्तान हसनल बोल्कियाह, गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में लेंगे हिस्सा

पढ़िये प्रियंका ने खत में क्या लिखा    

DDC हजारीबाग ! आप तो बड़े साजिशकर्ता निकले! आपने तो जिला परिषद को बंधक बना लिया है. आज जिला परिषद की बैठक थी तो मुझे बैठक की सूचना क्यों नही दी ? बैठक से मुझे दूर रखकर आप अपने कुकर्मो को छिपाना चाहते हैं. आप ड़र रहे हैं कि प्रियंका जिप की बैठक में यदि आयी तो आप अपनी मनमानी नहीं कर पाएंगे ! आपने जिला परिषद को सिर्फ पीसी वसूली का चारागाह बना रखा है. किन माफियाओं के इशारे पर काम कर रहे हैं आप?  आपने तो जिला परिषद को ही पंगू बना दिया है. आपके कारनामों से आहत होकर सभी जिप सदस्यों ने आज आपका खुलेआम बहिष्कार किया. जिला परिषद ने सभी बैठकों के सम्पूर्ण कार्यवाही का वीडियो रिकॉर्डिंग कराने का प्रस्ताव पारित किया था,  परंतु आपने तो इस प्रस्ताव को प्रोसीडिंग से ही गायब कर दिया. जो प्रस्ताव बैठक में पारित नहीं होते वैसे कई वित्तीय मामले आप प्रोसीडिंग में डाल देते हैं. आपके ऐसे सभी कारनामें लोकतंत्र (पंचायती राज) की हत्या है. आप जिला परिषद के सचिव पद की गरिमा को नष्ट कर चुके हैं! लेकिन अब मैं चुप नहीं बैठूंगी, इन तथ्यों से पंचायती राज विभाग,  मुख्य सचिव,  मुख्यमंत्री एवं प्रधानमंत्री को अवगत कराऊँगी !

प्रियंका के इस खत ने कई सारे सवालों को एकसाथ जन्म दे दिया है. साथ ही सूबे की भ्रष्टाचार मुक्त सरकार देने का दावा करने वाली सरकार को भी सोचने पर मजबूर कर दिया है कि, जिला प्रशासन में कोई बड़ा खेल जारी है और सरकार को इसकी भनक तक नहीं.   

इसे भी पढ़ें - रांची में जिस कार पर बैठे थे गांधी जी, उसे आज भी रोड पर दौड़ाते हैं अादित्य  

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.