छात्राओं ने शिक्षक पर लगाया यौन उत्पीड़न का संगीन इल्जाम, शिकायत के बावजूद नहीं हुई गिरफ्तारी

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 05/29/2018 - 20:14

Pravin Kumar

Gumla : स्कूल यानी शिक्षा का मंदिर, एक ऐसी जगह जहां शिक्षक, छात्रों का चरित्र निर्माण करते हैं. किताबी शिक्षा के साथ-साथ नैतिकता और सही गलत की पहचान कराते हैं. लेकिन अगर कोई शिक्षक नैतिकता की बजाय अश्लीतता का पाठ पढ़ाये तो आप क्या कहेंगे. एक ऐसा शिक्षक, जिसने गुरु-शिष्य की मर्यादा को तार-तार करते हुए छोटी-छोटी मासूम बच्चियों का यौन शोषण करे तो आप क्या कहेंगे ? गुमला जिले के कामडारा थाना क्षेत्र निवासी तारकेश्वर हरिहर, जो राजकीय प्राथमिक विद्यालय, कुरमुर में प्रभारी शिक्षक के तौर पर कार्यरत था, उसपर कुछ ऐसे ही आरोप लगे हैं. महिला आयोग, बाल सरंक्षण अयोग, प्रखंड विकास पदाधिकारी, थाना प्रभारी कामडारा, पुलिस अधीक्षक गुमला और उपायुक्त गुमला को लिखे गये पत्र में आरोपी शिक्षक की अश्लीलता का जिक्र है. किस तरह से आरोपी नाबालिग बच्चियों के साथ अश्लील हरकतें करता था. उन्हें बंद कमरे में अश्लील वीडियो दिखाता था. इतना ही नहीं नाबालिग मासूमों को अश्लील हरकत करने पर मजबूर भी करता था.

कहां है प्राथमिक विद्यालय कुरमुल ?

झारखंड विधानसभा अघ्यक्ष के विधानसभा क्षेत्र यानि गुमला जिला के कामडारा प्रखंड अंतर्गत कुरमुल गांव में अवस्थित है यह स्कूल. कुरमुल गांव में करीब 70 आदिवासी परिवार निवास करते हैं. जो आर्थिक रूप से काफी कमजोर हैं.

इसे भी पढ़ें- पाक महीने में नापाक हरकत, दो बच्चियों के साथ दुष्कर्म का प्रयास, परिजनों ने दर्ज कराया एफआईआर

इसे भी पढ़ें- पलामू: आजादी के 70 सालों बाद भी नहीं पहुंची विकास की रोशनी, मूलभूत सुविधाओं से वंचित आदिम जनजाति

क्या कहते हैं कुरमूल ग्रामसभा अध्यक्ष फ्रांसिस तोपनो ?

फ्रांसिस कहते हैं कि गांव के विद्यालय में कई साल से एक ही शिक्षक कार्यरत था. पिछले 4 सालों से यह शिक्षक विद्यालय में पढ़ने वाली छात्राओं के साथ गलत सलूक किया करता था, शिक्षक के द्वारा छात्राओं के शरीर को गलत तरीके से स्पर्श करने के साथ-साथ उनके साथ बेहद आपत्तिजनक हरकतें करता था. उसकी इसी हरकत के कारण गांव की बच्चियां स्कूल जाने के नाम से कतराने व डरने लगीं. इस बात की जानकारी मिलने पर ग्रामसभा की बैठक कर पूरे मामले की सूचना बीडीओ और थाना प्रभारी को 25 अप्रैल को दी गई थी. साथ ही इसकी प्रतितिपि अनुमंडल पदाधिकारी बसिया, डीएससी गुमला, पुलिस अधीक्षक गुमला, उपायुक्त गुमला को दी गई थी, लेकिन अभी तक शिक्षक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई.

डर से बच्चे अभिभवक को नही बताते थे

स्कूल के शिक्षक के द्वारा 2014 से घिनौनी हरकत की जा रही थी. लेकिन शिक्षक का खौफ इस कदर बच्चो पर हावी था कि वह अपने साथ हो रही अमानवीय हरकत को अभिाभवकों को भी नही बता पाते थे. धीरे-धीरे स्कूल जाने से छात्राएं मना करने लगीं तो मामले का खुलासा हुआ. इससे पूर्व भी एक छात्रा अपने अभिभावक को इस संबंध में बताया था, जिसे चुप करा दिया गया.

क्या कहती है गांव के महिला मंडल की वार्ड सदस्य

इस मामले पर वार्ड सदस्य का कहना है कि स्कूल में शिक्षक की हरकत पर शुरुआत में किसी को भरोसा नही हुआ, लेकिन एक साथ कई बच्चियों ने शिक्षक के की घिनौनी हरकत की बात बताई, तब जाकर सबको यकीन हुआ. अब बच्चियों को इंसाफ दिलाने के लिए अधिकारियों के पास दौड़ रहे हैं. बताया ये भी जा रहा है कि गांव के स्कूल में एक ही शिक्षक होने के बावजूद टीचर का दूसरे स्कूल में पदस्थापन हो गया है.

बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष आरती कुजूर ने क्या कहा ?

मामला अयोग के संज्ञान में आने के बाद मामले की जांच के लिए कुरमूल प्राथमिक विद्यालय और गांव का भ्रमण अयोग ने किया. मैं अब बच्चियों से पूरे मामले की जानकारी इकट्ठा की. बच्चियों ने शिक्षक की हरकत की पुष्टि की है. आरोपी शिक्षक को जल्द हिरासत में लेकर कार्रवाई करने को कहा है, मामले को लेकर पोक्सो एक्ट के तहत कार्रवाई होनी चाहिए. लेकिन आज तक शिक्षक की गिरफ्तारी ना होना गंभीर मामला है. कार्रवाई के लिए आयोग पहल कर रहा है.

क्या कहती हैं पीड़ित छात्राएं

इस मामले पर बच्चियों का कहना है कि शिक्षक के द्वारा स्कूल में हमलोगों के साथ गलत किया जाता था. हम लोग डर से किसी को कुछ नही कहते थे. जब स्कूल नही जाने की बात करने लगे तो गांव के लोगों को शिक्षक की घिनौनी हरकत की जानकारी मिली.

आरोपी शिक्षक की सफाई

आरोपों को लेकर टीचर ने कहा, हम पर गलत और झूठा अरोप लगया गया है गांव के लोगो ने छात्राओं को सिखा कर हम पर झूठा मुकदमा दर्ज कराया गया है. मेरी प्रतिनियोजन 7 मार्च को प्रखंड के तुरबुल स्कूल में हुआ इसके बाद यह मामला समाने आया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब