सावधान ! सेट टॉप बॉक्स में चिप लगाकर सरकार जानेगी टीवी पर क्या देख रहे हैं आप

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 04/16/2018 - 19:00

New Delhi : मिली रिपोर्ट के अनुसार अब आप कौन सा चैनल और कितनी देर देख रहे हैं, इसकी निगरानी होगी. रिपोर्ट के अनुसार सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय नए टेलीविजन सेट टॉप बॉक्स में एक चिप लगाने की तैयारी कर रहा है, ताकि वह यह जान सके कि दर्शक कौन सा चैनल सबसे ज़्यादा और कितनी देर तक देख रहे हैं.

मंत्रालय ने टेलीफोन रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) के समक्ष यह प्रस्ताव रखा है. मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार इसका उद्देश्य चैनलों के देखे जाने की निगरानी करना नहीं, बल्कि विश्वसनीय आंकड़े (व्यूअरशिप डेटा) जुटाना है.

इसे भी पढ़ें: कठुआ गैंगरेप केस: सुप्रीम कोर्ट का मुफ्ती सरकार को निर्देश-पीड़ित परिवार को दें सुरक्षा, पिता की मांग चंडीगढ़ में हो मामले की सुनवाई

डीएवीपी को होगा इसका लाभ

अधिकारियों का कहना है कि अभी विज्ञापनदाता और विज्ञापन एवं दृश्य प्रचार निदेशालय (डीएवीपी) चैनलों द्वारा दिये गये व्यूअरशिप के हिसाब से विज्ञापन और उसका रेट तय करती है. जिससे डीएवीपी और विज्ञापनदाता को नुकसान होता है. अधिकारियों का कहना है कि इसके लगने से विज्ञापन एवं दृश्य प्रचार निदेशालय (डीएवीपी) अपने विज्ञापनों पर सोच-समझकर ख़र्च करेगा. इससे चैनलों को उसकी व्यूअरशिप के हिसाब से विज्ञापन मिलेंगे और ज़्यादा देखे जाने वाले चैनेलों को ही विज्ञापन मिल सकेंगे. डीएवीपी विभिन्न मंत्रालयों और इनसे जुड़े संगठनों के विज्ञापन के लिए सरकार की नोडल एजेंसी है.

ग्राहकों की बिना मंजूरी के उसका डाटा हासिल कर सकेगी मंत्रालय

एक रिपोर्ट के अनुसार सेट टॉप बॉक्स में नई चिप लगने के बाद ग्राहकों की मंजूरी के बिना सरकार उसका डाटा हासिल कर सकेगी. मगर इससे पहले ऐसा नहीं होता था. रिपोर्ट के अनुसार ग्राहकों की अनुमति से 22,000 घरों में बार्क की ओर से मीटर लगाये गये है. बार्क मीटर के जरिये टीआरपी के आंकड़े इकट्ठा करता है. मगर नयी चिप लगने के बाद इसकी जरुरत खत्म हो जायेगी. एक अन्य रिपोर्ट की मानें तो मंत्रालय ने ट्राई से कहा है कि डीटीएच ऑपरेटरों से नए सेट टॉप बॉक्स में चिप लगाने के लिए कहा जाएगा.

इसे भी पढ़ें: मक्का मस्जिद विस्फोट केस: 11 साल बाद आया फैसला, स्वामी असीमानंद समेत सभी आरोपी बरी

ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल इंडिया का एकाधिकार ख़त्म करना चाह रही सरकार

अधिकारियों की मानें तो सरकार ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल इंडिया (बार्क) का एकाधिकार ख़त्म करना चाह रही है. मंत्रालय को शक है कि बार्क व्यूअरशिप रिपोर्ट करती है, जान-बूझकर दूरदर्शन के व्यूअरशिप को कम करके बताता है. गौरतलब है कि बार्क हर सप्ताह टीवी व्यूअरशिप के आंकड़े देता है. मंत्रालय के अधिकारी की मानें तो बार्क व्यूअरशिप के आंकड़े जुटाने की प्रक्रिया, उसका इलाका और उसकी विधि नहीं बताता है. अधिकारी के अनुसार, सरकार खुद आंकड़े जुटाकर बार्क के आंकड़ों का मिलान करेगी और पता लगायेगी कि बार्क के आंकड़े सही है या गलत. बार्क के प्रवक्ता की मानें तो बार्क समय-समय पर मंत्रालय को अपने कार्य की जानकारी देता रहता है.

इसे भी पढ़ें: नहीं थम रहा दरिंदगी का सिलसिला, उन्नाव-कठुआ के बाद सूरत और रोहतक में मासूम बच्चियों से हैवानियत

कांग्रेस ने सरकार पर बोला हमला, कहा- निजता का उल्लंघन है

रणदीप सुरजेवाला
रणदीप सुरजेवाला

सेट टॉप बॉक्स में एक चिप लगाने के प्रस्ताव का कांग्रेस ने विरोध किया है. सरकार पर हमला बोलते हुये कांग्रेस ने कहा कि ये निजता का सरासर उल्लंघन है और निगरानी का अगला चरण. कांग्रेस के संचार प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने सूचना और प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को इस मामले में आड़े हाथों लेते हुये कहा कि अब ये जानना चाहती हैं कि लोग अपने बेडरूम में कौन सा कार्यक्रम देखते हैं. एक ट्वीट में सुरजेवाला ने मोदी सरकार को ‘निगरानी सरकार’ क़रार दिया. उन्होंने कहा कि इस सरकार ने निजता के अधिकार का उल्लंघन करते हुये उसे तहस-नहस कर दिया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Main Top Slide
loading...
Loading...