न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

‘सुप्रीम’ फैसलों का दिन: सबरीमाला, राफेल और राहुल के मामले में SC सुनायेगा फैसला

न्यायमूर्ति गोगोई के नेतृत्व वाली पीठ इन महत्वपूर्ण मामलों में सुनाएगी फैसला

1,035

New Delhi: अयोध्या भूमि विवाद मामले पर ऐतिहासिक फैसले के बाद सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली पीठ गुरुवार को तीन महत्वपूर्ण मामलों पर फैसला सुनायेगी. सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को बड़े फैसलों का दिन है. गौरतलब है कि प्रधान न्यायाधीश गोगोई 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. 

राफेल विमान सौदे, सबरीमाला विवाद पर दायर की गई पुनर्विचार याचिका और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के अवमानना मामले पर सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाने वाला है.  

JMM

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection  रांची, कांके सहित कुछ सीटों पर कांग्रेस ने बीजेपी को दिया वॉक ओवर!

राफेल मामले पर फैसला

राफेल विमान सौदे पर सुप्रीम कोर्ट पुनर्विचार याचिका पर निर्णय सुनायेगा. इसमें 14 दिसंबर 2018 के फैसले पर पुनर्विचार की मांग की गयी है, जिसके तहत मोदी सरकार को राफेल लड़ाकू विमान की खरीदारी में क्लीन चिट दे दी गयी थी.

ज्ञात हो कि केंद्र सरकार के द्वारा फ्रांस के साथ किये गये समझौते पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाये गये थे, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गयी थी.

राफेल मामले में शीर्ष अदालत पूर्व केंद्रीय मंत्रियों- यशवंत सिन्हा और अरूण शौरी और कार्यकर्ता-वकील प्रशांत भूषण समेत कुछ अन्य की अर्जी पर सुनवाई करेगी.

इन याचिकाओं में पिछले साल के 14 दिसंबर के फैसले पर पुनर्विचार की मांग की गयी है जिसमें फ्रांस की कंपनी दसॉल्ट से 36 लड़ाकू विमान खरीदने के केंद्र के राफेल सौदे को क्लीन चिट दी गयी थी.

इसे भी पढ़ें- झारखंड हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस नियुक्त किये गये जस्टिस रवि रंजन

राहुल पर फैसला

पीठ एक अन्य याचिका पर अपना निर्णय सुनाएगी, जिसमें राफेल मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ ‘चौकीदार चोर है’ संबंधी टिप्पणी के खिलाफ कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर अवमानना कार्रवाई की मांग की गयी है. 

लोकसभा चुनाव के दौरान सुप्रीम कोर्ट की ओर से राफेल विवाद पर फैसला आया था. जिसके बाद राहुल गांधी ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट ने भी मान लिया है कि चौकीदार चोर है. इसी मामले पर सुप्रीम कोर्ट में फैसला सुनाया जायेगा.

सबरीमाला मंदिर पर फैसला

इसके अलावा न्यायमूर्ति गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ केरल में सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति देने के शीर्ष न्यायालय के फैसले पर पुनर्विचार को लेकर याचिकाओं पर अपना फैसला सुनाएगी.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले सबरीमाला मंदिर की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. मंदिर परिसर के आसपास 10 हजार पुलिस जवानों की तैनाती की गयी है

Related Posts

#JNUStudents का फीस बढ़ोतरी को लेकर राष्ट्रपति भवन मार्च, पुलिस का लाठीचार्ज

जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन ने घोषणा कि है कि अगर फीस कम नहीं की गयी तो वे पढ़ाई के बाद अब परीक्षा का भी बहिष्कार करेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like