न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Demonetization : वित्त मंत्रालय के पूर्व अधिकारी ने कहा, हो रही है 2000 के नोट की जमाखोरी, इसे बंद कर देना चाहिए

नोटबंदी की तीसरी वर्षगांठ पर आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव एस सी  गर्ग ने कहा कि 2,000 रुपये के नोट को बंद कर देना चाहिए.

169

NewDelhi :  नोटबंदी की तीसरी वर्षगांठ पर आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव एस सी  गर्ग ने कहा कि 2,000 रुपये के नोट को बंद कर देना चाहिए. उन्होंने दावा किया कि 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट की जगह लाये गये 2,000 रुपये के नोट की जमाखोरी की जा रही है और इसे बंद कर देना चाहिए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन साल पहले आज ही के दिन 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट को बंद करने की घोषणा की थी. इसका मकसद काले धन पर अंकुश लगाना , डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देना और देश को लेस – कैश अर्थव्यवस्था बनाना था.

गर्ग ने एक नोट में कहा , वित्तीय प्रणाली में अब भी काफी मात्रा में नकदी है. 2,000 रुपये के नोटों की जमाखोरी इसका सबूत है. पूरी दुनिया में डिजिटल भुगतान का विस्तार हो रहा है. भारत में भी ऐसा ही हो रहा है. हालांकि , विस्तार की रफ्तार धीमी है.  वित्त मंत्रालय से स्थानांतरण के बाद गर्ग ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) ले ली थी. गर्ग ने कहा कि मूल्य के आधार पर चलन में मौजूद मुद्रा में 2,000 रुपये के नोट की एक – तिहाई हिस्सेदारी है.

इसे भी पढ़ें : रेटिंग एजेंसी मूडीज ने घटायी भारत की रेटिंग, कम आर्थिक वृद्धि का हवाला देकर आउटलुक किया नेगेटिव

Trade Friends

मुद्रा के लेनदेन में 2,000 रुपये के नोट ज्यादा नहीं दिखते

उन्होंने दो हजार रुपये के नोट को बंद करने या चलन से वापस लेने की वकालत करते हुए कहा , वास्तव में 2,000 रुपये के नोटों का एक अच्छा – खासा हिस्सा चलन में नहीं है. इनकी जमाखोरी हो रही है. इसलिए मुद्रा के लेनदेन में 2,000 रुपये के नोट ज्यादा नहीं दिखते हैं. गर्ग ने कहा , बिना किसी दिक्कत के इन नोटों को बंद किया जा सकता है. इसका एक आसान तरीका है कि इन नोटों को बैंक खातों में जमा कर दिया जाये. इसका उपयोग प्रक्रिया के प्रबंधन में किया जा सकता है.

आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव ने कहा , भुगतान करने के बेहद सुविधाजनक डिजिटल मोड तेजी से नकदी की जगह ले रहे हैं. हालांकि भारत को इस दिशा में अभी लंबी दूरी तय करना है क्योंकि देश में 85 प्रतिशत से अधिक लेनदेन में अभी भी नकदी की मौजूदगी है.

इसे भी पढ़ें : नोटबंदी के तीन सालः वर्षगांठ या बरसी? हमें लिखें

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like