शर्मनाकः ममता बनर्जी के साथ लंदन गये पत्रकारों ने डिनर के दौरान चुरायी चम्मचें, भरा 50 पौंड जुर्माना

Submitted by NEWSWING on Wed, 01/10/2018 - 15:37

New Delhi: पत्रकारिता को हिम्मत और ईमानदारी का पेशा माना जाता है. पत्रकारों का काम सच्चाई और गलत चीजों को सामने लाना होता है, लेकिन अगर वही पत्रकार चोरी जैसी हरकत करे तो पूरे पत्रकार जमात को ठेस पहुंचती है. और खास कर जब भारत के पत्रकार विदेश की धरती में इस तरह की हरकत करें तो पूरा देश शर्मसार महसूस करता है. भारत के कुछ पत्रकारों ने सात समंदर पार ऐसी हरकत कर दी जिससे इस पेशे के साथ ही देश भी शर्मसार हो गया है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ आधिकारिक टूर पर लंदन गए कुछ पत्रकारों ने होटल में डिनर के दौरान चांदी की चम्मचें चुरा लीं.

पत्रकारों की यह हरकत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई. पत्रकारों को पकड़ा गया और इस अपराध के लिए उन्हें 50 पौंड का जुर्माना भरना पड़ा. इस घटना के बाद होटल के सिक्योरिटी स्टाफ ने जब पत्रकारों की इस कारगुजारी का खुलासा किया तो एक को छोड़कर सभी ने चुराई हुईं चम्मचें लौटा दीं, लेकिन एक पत्रकार अपनी गलती नहीं मानने पर अड़ गए, लेकिन कैमरे में वह स्पष्ट तौर पर चम्मच चोरी करते पकड़े गए थे. 

इसे भी पढ़ेंः ग्रामीण कार्य विकास विभाग का खजाना खाली, अब कैसे होगा 11 जिलों में 113 पुलों का निर्माण पूरा

चोरी करने वाले थे सभी वरिष्ठ पत्रकार

चोरी करने वाले वरिष्ठ पत्रकार थे जिन्हें उनके संगठनों ने मुख्यमंत्री के साथ एक महत्वपूर्ण दौरे के लिए चुनकर भेजा था. लेकिन वहां जाकर इन्होंने न सिर्फ अपने संगठन की नाक कटवा दी बल्कि पूरे देश को शर्मसार करवा दिया. इन्हें चोरी करते शर्म नहीं आयी, लेकिन लंदन के लक्जरी होटल का सुरक्षा स्टाफ भी उस समय दुविधा में पड़ गया जब उसने देखा कि कॉन्फ्रेंस हॉल में डिनर के लिए बैठे मेहमानों ने बड़ी मेज पर रखी चांदी के छुरी, कांटों को अपने थैलों में डाल लिया और उन पर्सों में भर लिया जिन्हें वे अपनी गोद में रखे हुए थे.

आउटलुक की रिपोर्ट के मुताबिक यह सब सीसीटीवी कैमरों पर सीधा प्रसारित हो रहा था. होटल के सुरक्षा स्टाफ ने विचार किया कि इस घटना को उजागर किया जाए या नहीं क्योंकि वे उस सम्मानित हस्ती को शर्मिंदा नहीं करना चाहते थे, जिनके सम्मान में यह डिनर आयोजित किया था.

इसे भी पढ़ें- 514 युवकों को नक्सली बताकर सरेंडर कराने और सेना व पुलिस में नौकरी दिलाने के नाम पर एजेंट व अफसरों ने वसूले रुपयेः एनएचआरसी

सीसीटीवी फूटेज ने पकड़ी चोरी

रिपोर्ट के मुताबिक हॉल की एक बड़ी मेज के चारों ओर भारत और ब्रिटेन के प्रमुख नागरिक बैठे थे, जिनमें राजनीतिज्ञ, उद्योगपति और पत्रकार भी शामिल थे. जहां तक पत्रकारों का सवाल था तो वे अपने-अपने संगठनों की ओर से भेजे गए थे और यह सोचना भी संभव नहीं था कि वे ऐसा करेंगे, लेकिन सीसीटीवी फुटेज में सब कुछ साफ साफ दिख रहा था. चोरी के आरोपी सभी पत्रकार अपने-अपने संस्थानों में वरिष्ठ संपादक हैं. बताया जाता है कि बंगाली भाषा के एक न्यूज पेपर में कार्यरत एक पत्रकार ने सबसे पहले चम्मचें चुराईं. इसके बाद एक-एक कर सभी पत्रकारों ने चम्मचें चोरी कर ली.

इसे भी पढ़ेंः कलबुर्गी हत्याकांड में NIA, CBI, कर्नाटक व महाराष्ट्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस, कलबुर्गी और लंकेश की हत्याओं में कई समानताएं

लंदन के भारतीय समुदाय में इंडियन पत्रकारों की किरकिरी

एक बंगाली पत्रकार ने बताया कि चोरी के आरोप में पकड़े गए पत्रकार समझ रहे थे कि सीसीटीवी कैमरे काम नहीं कर रहे हैं, क्योंकि अक्सर बंगाल में सीसीटीवी कैमरे काम नहीं करते. हालांकि ऐसा नहीं था. सभी कैमरे काम कर रहे थे. चोरी की करतूत सीसीटीवी में देखने के बाद होटल स्टॉफ ने काफी सोच विचार कर इन पत्रकारों से चुपचाप जाकर कहा कि वे जो कुछ कर रहे हैं, उसकी उन्हें पूरी जानकारी है. उनसे यह भी कहा गया कि वे चुराई गई कटलरी को वापस टेबल पर रख दें.

यह सुनकर इनमें से ज्यादातर लोग शर्मिंदा हुए और उन्होंने चांदी के सामानों को वापस मेज पर रख दिया. लेकिन, इनमें से एक पत्रकार ऐसा भी था जिसने मानने से इनकार कर दिया कि उसने कुछ चुराया है. इसके बाद होटल के लोगों ने साफ-साफ कह दिया कि अगर उन्होंने सहयोग नहीं किया तो सारा मामला पुलिस को सौंप दिया जाएगा. आखिरकार उसने चोरी की बात मानी और पचास पौंड का जुर्माना चुकाया. अंत‍ में, यह बात लंदन में भारतीयों के समुदाय में जंगल की आग की तरह फैल गई.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Main Top Slide
loading...
Loading...