Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

Add new comment

वेतन पुनरीक्षण की मांग पर धरने पर बैठे टीटीपीएस मजदूर, काम का किया बहिष्कार

News Wing 

Bokaro, 13 September: वेतन पुनरीक्षण मांग को लेकर घेरा डालो, डेरा डालो के तहत ठेका मजदुर संघ ललपनिया द्वारा आज  कार्य का बहिष्कार किया गया है. ललपनिया के ठेका मजदूर प्लांट गेट के निकट पुराना कांटा घर के सामने एकजुट होकर धरने पर बैठ गये हैं.

मजदूरों को बढ़े हुए वेतन पर आधारित पैसे नहीं देना चाहता टीटीपीएस प्रबंधन

इस आंदोलन का नेतृत्व ठेका मजदूर संघ के अध्यक्ष व जिला परिषद के सदस्य प्रकाश लाल सिंह कर रहे हैं. मजदूरों की मांग है कि प्रबंधन सरकार द्वारा तय किये गये वेतन पुनरीक्षण को लागू नहीं कर रही है. बता दें अगस्त 2015 से ही सरकार ने वेतन पुनरीक्षण कर मजदूरों के वेतन में बढ़ोतरी की घोषणा कर दी है लेकिन टीटीपीएस प्रबंधन मनमानी रवैया अपनाते हुए मजदूरों को बढ़े हुए वेतन पर आधारित वेतन देना नहीं चाहता.

उप श्रमायुक्त ने मजदूरों के वेतन पुनरीक्षण मांग को लागू करने का दिया था आदेश 

इसी मामले में ठेका मजदूर संघ ने उप श्रमायुक्त बोकारो को लिखित रूप से सरकार द्वारा निर्धारित वेतन के आधार पर मजदूरों का वेतन दिये जाने का अनुरोध किया  था. मजदूरों के जायज मांग को गंभीरता से लेते हुए उप श्रमायुक्त ने वित्तीय प्रबंधन को 11 सितंबर तक मजदूरों के वेतन पुनरीक्षण मांग को लागू करने का आदेश दिया है बावजूद इसके पीटीपीएस प्रबंधन मजदूरों को बढ़ा हुआ वेतन देने को तैयार नहीं.

हक मार पुराने वेतनमान के आधार पर ही किया जा रहा मजदूरों को भूगतान 

मालूम हो कि पिछले दो वर्ष से प्रबंधन मजदूरों का हक मार पुराने वेतनमान के आधार पर ही भूगतान कर रही है. विवश होकर ठेका मजदूरों ने अनिश्चित कालीन काम बहिष्कार का निर्णय ले लिया. ठेका मजदूर संघ महासचिव जगेशवर शर्मा, सचिव हरिहर साव, अनंत दास, विनोद गजनेट, प्रदीप ठाकुर, ताजउदीन अंसारी, बंधु प्रजापति, देवनारायण साव, गंगा सागर तिवारी, सगीर अंसारी,  सकील अंसारी, रामजी मरांडी, कुलेशवर ठाकुर, विनोद मरांडी, राजेश करमाली, महेश साव, कुलदीप प्रजापति महेश नोनिया,  अनवर अंसारी, प्रदीप साव, सहित सैकड़ों मजदूर आंदोलन को सफल बनाने में लगे हुए हैं. 

Top Story
Share
loading...