Skip to content Skip to navigation

मोमेंटम झारखंडः छह माह बीते, एमओयू तीन लाख करोड़ का और निवेश सिर्फ 800 करोड़

मृत्युंजय श्रीवास्तव

Ranchi, 08 August : झारखंड में उद्योग को प्रोत्साहित करने अौर निवेश बढ़ाने के लिए सरकार ने फरवरी माह में मोमेंटम झारखंड का आयोजन किया था. जिसमें करोड़ों रुपये खर्च हुए. अायोजन के छह माह पुरे होने को है. मोमेंटम झारखंड के वक्त सरकार ने दावा किया था कि इसके अायोजन से राज्य में तीन लाख करोड़ का निवेश अायेगा. सरकार ने तब एक सूची भी जारी की थी, जिसमें सरकार के एमअोयू करने वाले 210 कंपनियों के नाम भी थे. सरकार के स्तर से बताया गया था कि झारखंड के दो लाख 10 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा. मोमेंटम झारखंड के आयोजन के छह महीने के बाद अब तक सिर्फ 20 कंपनियों ने काम शुरू किया है अौर मात्र 800 करोड़ का ही निवेश (योजना लागत) हो पाया है. काम शुरू करने वाली कंपनियों का दावा है कि योजना पूरी होने के बाद करीब 21 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा.

44 देशों के निवेशक अाए थे

फरवरी में अायोजित मोमेंटम झारखंड में देश के बड़े उद्योगपति टाटा, अडानी, बिड़ला तो अाये ही थे. 44 देशोंं के निवेशक भी अाए थे. अायोजन के ठीक तीन माह के भीतर 18 मई को सरकार ने 20 कंंपनियों के 21 प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया था. जिससे यह लगने लगा था कि राज्य सरकार अौद्योगिक विकास के क्षेत्र में लंबी छलांग लगाने वाली है. पर, हाल के तीन माह में इस सोच को झटका लगा है.

सात हजार करोड़ के निवेश से पीछे हटा कोरियाई कंपनी

मोमेंटम झारखंड में दक्षिण कोरिया की ग्रुप ऑफ कंपनीज ने झारखंड में सात हजार करोड़ रूपये के निवेश करने को लेकर आठ एमओयू पर हस्ताक्षर किये थे. कंपनी कुल सात सेक्टर में काम करने वाली थी. लेकिन राज्य सरकार से जरूरी सहयोग नहीं मिलने से कंपनी के अधिकारी नाराज हो गयेे. कंपनी ने झारखंड में निवेश करने से हाथ खडा कर दिया. कोरियाई कंपनी को इस हालात तक पहुंचने के लिए सरकार के एक अधिकारी जिम्मेदार बताये जाते हैं. कंपनी इंडस्ट्रीयल बैटरी, बैटरी व्हीकल, स्मार्ट इन्वर्टर, सोलर माइक्रो ग्रिड, माइक्रो वाई-फाई और आइटी के क्षेत्र में काम करने वाली थी.

800 करोड़ के 21 परियोजना शुरू होंगे

मोमेंटम झारखंड के बाद अब तक कुल 800 करोड़ की परियोजना का शिलान्यास हुअा है. कंपनी से जुड़े लोगों का मानना है कि अगले सात-अाठ महीनों में सभी परियोजनायें धरातल पर उतर जायेंगी. इन कंपनियों के चालू होने के बाद करीब 21 हजार लोगोंं को प्रत्यक्ष व 40 हजार लोगों को अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा. इन कंपनियों में पांच कंपनी कपड़ा उद्योग से जुड़ी है. जिन्होंने 323 करोड़ का निवेश का एमअोयू किया है.

इन कंपनियों ने काम शुरू किया

ओरिएंट क्राफ्ट टेक्सटाइल्स : कंपनी ने करीब 200 करोड़ का निवेश करेगी. कपड़ा उद्योग से जुड़ी इस कंपनी को खेलगांव में फैक्ट्री लगाने के लिए जमीन दी गयी है. कंपनी का दावा है कि करीब 15000 लोगों को रोजगार मिलेगा.

अमित ऑयल प्राइवेट लिमिटेड : कंपनी 129 करोड़ का निवेश करेगी. 171 लोगो को रोजगार मिलेगा. ऑयल और कैटल फीड की इस कंपनी को नगड़ी में जमीन दी गयी है.

मेडिकेंट सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल : कंपनी 100 करोड़ का निवेश करेगी. बोकारो में बनने वाला यह अस्पताल 1000 लोगों को रोजगार से जोड़ेगा.

त्रिवेणी अपेरल्स प्राइवेट लिमिटेड : 26 करोड़ का निवेश. कपड़ा उद्योग से जुडी यह कंपनी हजारीबाग के बड़कागांव में अपना प्रोजेक्ट लगा रही है. 1000 लोगो को यह कंपनी रोजगार देगी.

शाही एक्सपोर्ट टेक्सटाइल : 34 करोड़ का निवेश करने वाली इस कंपनी में 2200 लोग रोजगार से जुडेंगे. कपड़ा उद्योग से जुडी यह कंपनी ने रांची में अपनी यूनिट लगाने वाली है.

मैट्रिक्स क्लोदिंग टेक्सटाइल: 60 करोड़ का निवेश करेगी. 1000 लोगों को रोजगार मिलेगा. रांची के ओरमांझी में इस कंपनी का शिलान्यास किया गया है.

एसएफके मैन्यूफैक्चरर्स गारमेंट्स : तीन करोड़ का निवेश करने वाली यह कंपनी 150 लोगों को रोजगार देगी. कंपनी लोहरदगा में खुलेगी.

कोरस एग्रो प्राइवेट लिमिटेड फूड प्रोसेसिंग : अाठ करोड़ का निवेश करने वाली यह कंपंनी 50 लोगों को रोजगार देगी. रांची में फैक्ट्री होगा.

प्रगति बेवरेज फूड प्रोसेसिंग : 15 करोड़ का निवेश किया. खाद्य पदार्थ बनाने वाली यह कंपनी 100 लोगों को रोजगार से जोड़ेगी. रांची में फैक्ट्री.

श्री बैद्यनाथ वेयर हाउसिंग प्रा.लि : 7.5 करोड़ का निवेश करने वाली वेयर हाउसिंग से जुडी यह कंपनी 35 लोगों को रोजगार देगी.

श्री बैद्यनाथ वेयर हाउसिंग प्रालि : 10 करोड़ का चांडिल में निवेश, वेयर हाउसिंग से जुडी यह कंपनी 50 लोगों को रोजगार देगी.

कावेरी एग्री वेयरहाउसिंग इंडिया प्रा.लि. : दो करोड़ का निवेश वाली कोल्ड स्टोरेज 18 लोगों को रोजगार देगी. 

प्रेम फुटवियर : पांच करोड़ का निवेश करने वाली यह कंपनी 300 लोगो को रोजगार देगी. जूता-चप्प्ल बनाने वाली यह कंपनी रांची में स्थापित होगी.

शॉ फार्मा ड्रग्स प्रा. लि. : दवा बनाने वाली इस कंपनी ने 51 करोड का निवेश किया है. देवघर में शुरू होने वाली यह कंपनी 100 लोगों को रोजगार देगी.

डायमंड न्यूट्रिफूडस प्रा. लि. : 30 लाख का निवेश करने वाली यह कंपनी 50 लोगो को रोजगार देगी. खाद्य पदार्थ बनाने वाली इस कंपनी को रांची में जमीन दी गयी है.

चार्जटेक एनर्जी लीड एसिड बैटरी : 3.50 करोड़ का निवेश और 54 लोगो को रोजगार देगी. एसिड बैटरी बनाने वाली यह कंपनी रांची में अपना प्रोजेक्ट लगायी है.

बॉयो जेनेटिक लेबोरेट्रीज प्रा.लि. : कंपनी 4.5 करोड़ के निवेश के साथ धनबाद में बायो मेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट लगायेगी और 105 लोगों को रोजगार देगी.

टेंग्रीन डिजाइन लेदर एंड टेक्सटाइल : 30 करोड़ के निवेश के बाद यह कंपनी 700 लोगों को रोजगार देगी. बैग बनाने वाली इस कंपनी को रांची में प्लांट लगाने के लिए जमीन दी गयी है.

जलान फूड प्रोडक्ट्स : फूड प्रोसेसिंग वाली इस कंपनी 4.50 करोड़ का निवेश करेगी. कंपनी रांची में 32 लोगों को रोजगार देगी.

ठंपीरियल ट्रेडिंग एंड लॉजिस्टिक्स : 1.50 करोड़ निवेश करने वाली यह बेकरी कंपनी रांची में 50 लोगों को रोजगार देगी.

19 अगस्त को हो सकता है दो हजार करोड़ की योजना का शिलान्यास

19 अगस्त को रांची में ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का आयोजन किया जाने वाला है. सरकार को उम्मीद है उस अायोजन में 2000 करोड़ रूपये की योजना का शिलान्यास किया जायेगा. योजना पुरी होने पर 10 हजार लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है. 19 अगस्त को जो कंपनियां समारोह में अायेगी, उसमें अाठ महत्वपूर्ण है.

Slide
Share
loading...