Skip to content Skip to navigation

प्रो-कबड्डी को लेकर उत्साहित हैं युवा, रांची में पहली बार आयोजन

Sakshi Agrawal

13 September :
पहली बार प्रो-कबड्डी लीग के कई मैचों की मेजबानी रांची को मिली है. इसे लेकर कबड्डी के फैन्स खासे उत्साहित हैं. 15 सितंबर से मैच होने हैं. चार सीजन के बाद इस साल पहली बार बिरसा भूमि में प्रो-कबड्डी का आयोजन होने जा रहा है. मैच 15 से 21 सितंबर तक चलेगा. इसे लेकर तैयारी जोरों पर है. युवाओं का गज़ब का उत्साह देखा जा रहा है. 

क्या कहते हैं शहर के युवा

- गोस्सनर कॉलज के मास कम्युनिकेशन डिपार्टमेंट के विवेक कहते हैं कि मैं बचपन से एक स्पोर्ट्स पर्सन रहा हूं. हर गेम की अपनी खासियत है. और कबड्डी ऐसा गेम है जो हर इंसान जरूर खेला होता है. कबड्डी को इस नए स्वरुप में शुरू किया गया है, इससे ज़्यादा से ज़्यादा युवा जुड़ रहे हैं. 

- शमाम आफरीन कहते हैं प्रो कबड्डी आने के बाद से कबड्डी के प्रति रुझान बढ़ा है. पहले जिस तरह क्रिकेट, फुटबॉल की चर्चा दोस्तों से करते थे, अब कबड्डी की भी होती है. इस खेल को लेकर लोगों में उत्सुकता आई है. पहले ना इसके नियम पता थे ना ही कभी इतना रोमांचक लगा. मगर अब हर मैच देखता हूं. 

राज कहते हैं यह हमारे शहर के लिए सौभाग्य की बात है कि यहां भी नेशनल लेवल मैच का आयोजन किया जा रहा है. इससे हमलोगों को खेल को करीब से जानने का मौका मिलता है. टिकट्स और पास के लिए होड़ मची हुई है. इससे इस खेल की लोकप्रियता का अंदाज़ा लगाया जा सकता है. पटना पाइरेट्स और तेलगु  टाइटंस को सपोर्ट करता हूं. 

किस दिन भिड़ेंगीं कौन सी टीमें 

15 सितम्बर 

पटना पाइरेट्स और तेलुगु टाइटंस 

टीम गुजरात और यू मुंबा

16 सितम्बर         

बेंगलुरु बुल्स और तेलुगु टाइटंस        

पटना पाइरेट्स और यूपी योद्धा


17 सितम्बर  

दबंग दिल्ली और जयपुर                    

बंगाल वॉरियर्स और पटना पाइरेट्स


19 सितम्बर  

पुणेरी पलटन और टीम हरियाणा           

पटना पाइरेट्स और बेंगलुरु बुल्स


20 सितम्बर 

पटना पाइरेट्स   और टीम तमिलनाडु

21 सितम्बर 

जयपुर पिंक पैंथर्स और हरियाणा स्टिलर्स     

पटना पाइरेट्स और यूपी योद्धा

आईपीएल, एचपीएल की तर्ज पर जब से प्रो-कबड्डी की शुरुआत हुई है, लोगों का रुझान बढ़ा है. गांव-देहात या स्कूल में खेले जाने वाले खेल के आज लाखों दीवाने हैं. युवा स्टेडियम में ही नहीं टीवी के सामने घंटों बैठ कर अपनी पसंदीदा टीम की हौसलाअफजाई करते हैं. आज लोग कबड्डी को उसी उत्साह और जोश के साथ देखते हैं जिस तरह अन्य खेल देखना पसंद करते हैं.

Lead
Share

Add new comment

आध्यात्म

News Wing

Ranchi, 25 September: रांची के हरिमति मंदिर में साल 1935 से ही पारंपरिक तर...

Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us