health

स्वास्थ्य सुविधाओं में भूटान से भी पिछड़ा है भारत, विश्व में 145वें पायदान पर

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 05/24/2018 - 12:09

New Delhi : स्वास्थ्य सुविधाओं तक पहुंच और इनकी गुणवत्ता मामले में भारत 145 वें स्थान पर है. लांसेट अध्ययन के अनुसार भारत 195 देशों की सूची में अपने पड़ोसी देश चीन , बांग्लादेश , श्रीलंका और भूटान से भी पीछे है.

बेंगलुरु से 'जिंदा दिल' लाया गया कोलकाता, झारखंड के मरीज की बची जान

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 05/22/2018 - 11:13

Kolkata: एकबार फिर मेडिकल साइंस के एडवांस टेक्निक ने एक मरीज की जान बचायी है. बेंगलुरु में ब्रेन डेड एक युवक के हृदय को हवाई रास्ते से कोलकाता लाकर झारखंड के 39 साल के एक व्यक्ति में सफल प्रतिरोपण किया गया. देवघर के सोनारायठाढ़ी गांव के निवासी दिलचंद सिंह का हृदय प्रत्यारोपित किया गया.

ग्लूकोमा के मरीजों की बढ़ रही है संख्या, रिम्स में हर दिन आते हैं हजारों मरीज  

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 04/21/2018 - 17:19

Ranchi : ग्लूकोमा यानि कि काल मोतिया एक खतरनाक बीमारी है. इस बीमारी के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. यदि पारिवारिक इतिहास में यह बीमारी है तो खतरा ज्यादा रहता है. लेकिन 40 साल के बाद इस बीमारी के होने की आशंका बढ़ जाती है. वैसे तो इस बीमारी के कई लक्षण हैं.

बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं की वजह से न्यूरो सर्जरी में बढ़ रही है मरीजों की संख्या : डॉ बीके सिंह

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 04/19/2018 - 14:20

Saurabh Shukla

Ranchi : डॉ बीके सिंह रांची के जाने माने न्यूरो सर्जन हैं. लंबे समय तक उन्होंने रिम्स में काम किया. आज की तारीख में वह साईं अस्पताल में  बतौर चिकित्सक काम कर रहे हैं. न्यूज विंग संवाददाता में उनसे सिर में चोट लगने से होने वाले नुकसान की स्थिति पर बातचीत की. पेश है बातचीत के मुख्य अंश.  

30 वर्ष की आयु के बाद हर 10 साल पर 10% कम हो जाती है किडनी की कार्य क्षमता

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 01/17/2018 - 17:56

पवन ठाकुर

जैसा कि हम सभी जानते हैं किडनी हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है. हमारे शरीर में रक्त के भीतर जो भी नुकसानदेह पदार्थ है उन्हें बाहर निकालने का महत्वपूर्ण कार्य किडनी करता है. आज के भाग-दौड़ वाले जीवन में बिगड़ी हुई जीवन शैली के कारण किडनी रोग से पीड़ित रोगियों की संख्या हर दिन बढ़ रही है. किडनी रोग के कारण किडनी की कार्य क्षमता कम होने से शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों पर प्रतिकूल असर होता है, जिससे रोगी की मृत्यु भी हो सकती है.