न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शिक्षकों की कमी से जूझ रही RU, फिर भी शुरू किया गया एक दर्जन सेल्फ फिनांस कोर्स

94

Ranchi: रांची विवि शिक्षकों की कमी झेल रहा है. इसके बावजूद भी विवि प्रशासन की ओर से शैक्षणिक सत्र 2019-20 से कई कोर्स शुरू किये गये हैं. जो उधार के शिक्षकों के भरोसे संचालित हो रहा है. स्नातक और डिप्लोमा स्तर पर इस शैक्षणिक सत्र से लगभग एक दर्जन कोर्स शुरू किये गये हैं. लेकिन इन कोर्सों में नामांकन लेने वाले विद्यार्थियों को मूल शिक्षकों के भरोसे ही पढ़ाया जा रहा है. कई कोर्स में तो ठेके पर शिक्षकों को रखकर काम लिया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – जाति और धर्म की परिधियों में बांटकर रेपिस्ट को बचाने की प्रवृति समाज को कहां ले जायेगी?

JMM

छह से ज्यादा कोर्स हैं संचालित

रांची विवि में शैक्षणिक सत्र 2019-20 से योग में पीजी व पीजी डिप्लोमा, गाइडेंस व काउंसलिंग, परफॉर्मिंग आर्ट, क्लिनिकल न्यूट्रिशियन एंड डाइटिक्स, फैशन डिजाइन, फूड प्रोसेसिंग, वाटर मैनेजमेंट सहित कई कोर्स शुरू किये गये हैं. इन कोर्सों में नामांकन लिए हुए विद्यार्थियों को संबंधित विभाग के शिक्षक ही पढ़ा रहे हैं.

उदाहरण के लिए रांची विवि के मनोविज्ञान विभाग के साथ गाइडेंस व काउंसलिंग में पीजी कोर्स शुरू किया गया है. लेकिन कोर्स में पढ़ाने के लिए अलग से शिक्षक नियुक्त नहीं किये गये हैं. गौरतलब है कि यहां संचालित हो रहे एक दर्जन से अधिक कोर्स सेल्फ फिनांस कोर्स हैं.

शिक्षकों पर क्लास लेने का है बोझ

रांची विवि में मूल रूप से 22 विभिन्न विभाग संचालित हो रहे हैं. इसके साथ ही सभी मूल विभाग के साथ एड ऑन कोर्स हैं. जैसे पॉलिटिकल साइंस विभाग के साथ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन और हिस्ट्री के साथ आर्कियोलॉजी आदि.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

वहीं मूल कोर्स के साथ संचालित हो रहे एड ऑन कोर्स में ही पढ़ाने के लिए शिक्षक नहीं हैं. ऐसे में सेल्फ फिनांस कोर्स शुरू हो जाने से शिक्षकों पर क्लास लेने का बोझ बढ़ा है. नाम नहीं लिखने की शर्त पर एक शिक्षक ने बताया कि रांची विवि का प्रयास तो सही है, लेकिन शिक्षकों पर क्लास लेने का दबाव बनाना सही नहीं है. शिक्षक चाहकर भी अपना 100 फीसदी नहीं दे पायेंगे.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection: सरयू राय ने बताया आखिर क्यों जरूरी हो गया था रघुवर दास के खिलाफ चुनाव लड़ना

1108 सृजित पद में 599 पद खाली

रांची विश्वविद्यालय (आरयू) में ही शिक्षकों के 1108 पद सृजित हैं. इनमें 509 स्थायी शिक्षक कार्यरत हैं. जबकि सेवानिवृत्ति के कारण 599 पद खाली हैं. इतना ही नहीं शिक्षकों के अलावा विवि में थर्ड ग्रेड के 764 में से 436 और फोर्थ ग्रेड के 731 में से 393 पद भी खाली हैं.

वहीं, रांची विवि में ही 31 मार्च 2020 तक 48 शिक्षक सेवानिवृत्त हो चुके हैं. इनमें 28 एसोसिएट प्रोफेसर, 12 असिस्टेंट प्रोफेसर व सात विवि प्रोफेसर शामिल हैं. वैकल्पिक व्यवस्था के तहत विवि में लगभग 483 कांट्रैक्ट शिक्षकों की नियुक्ति की गयी है.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection: डालटेनगंज में कांग्रेस प्रत्याशी केएन त्रिपाठी ने पोलिंग बूथ पर लहराया हथियार, डीसी ऑफिस में पूछताछ

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like