सरायकेला: इलाज के अभाव में दर्द से तड़प रही गर्भवती, डॉक्टर ने खड़े किये हाथ.

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 03/13/2018 - 09:32

Jamshedpur: सरायकेला के सदर अस्पताल में दो जिंदगियां, जिंदगी और मौत के बीच झूल रही हैं. एक ओर सरकार लोगों को हर तरह की स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने का वादा और दावा करती है. वही दूसरी ओर इसी स्वास्थ्य व्यवस्था की शमर्नाक हकीकत भी सामने आयी है. दरअसल सदर अस्पताल में भर्ती एक गर्भवती महिला का प्रसव कराने से वहां के डॉक्टर्स ने इनकार कर दिया है. अब पीड़ित महिला जाये तो जाये कहां. क्योंकि उसके साथ जो महिला वो एमजीएम जाने से इनकार कर रही है. जबकि दो युवक जो महिला को हॉस्पीटल में भर्ती कराने लाये थे वो फरार है.

इसे भी पढ़ें: भाजपा ने माना कि वह क्रॉस वोटिंग कराने जा रही है, प्रवक्ता ने कहा विपक्ष के कई विधायक उस के संपर्क में

डॉक्टर्स ने इलाज से क्यों किया इनकार ?

सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने महिला का इलाज करने में असमर्थता जाहिर की है. डॉक्टर्स का कहना है कि महिला के गर्भ में जो बच्चा है उसका वजन काफी ज्यादा है. साथ ही बच्चे का पोजिशन भी ठीक नहीं है. चिकित्सकों का कहना है कि इलाज के दौरान दिक्कत आ सकती है. इसलिए महिला को एमजीएम में भर्ती कराने को कहा गया है.

इसे भी पढ़ें:सरयू राय ने सीएम को लिखी चिट्ठीः "इरादों में ईमानदार नहीं रहनेवाली राजबाला वर्मा" को मंत्रिपरिषद की विज्ञप्ति में उत्कृष्ट, कुशल व दक्ष प्रशासक बताये जाने पर आपत्ति जतायी

कौन है पीड़ित महिला ?

गर्भवती महिला का नाम ओयता बोदरा है, जो राजनगर प्रखंड के बाना गांव निवासी लिंका बोदरा की पत्नी है. मिली जानकारी के अनुसार दो युवक इलाज के नाम पर उसे सदर अस्पताल लाये और फिर यहां से दोनों फरार हो गये. महिला दर्द से तड़प रही है. लेकिन उसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है. फिलहाल महिला के साथ उसकी एक मुहबोली मामी है. जिसे किसी बात की जानकारी तक नहीं है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.