khas khabar

री एडमिशन, डेवलपमेंट चार्ज और किताबों में लूट के बाद अब स्कूलों में वसूला जा रहा बिजली बिल

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 04/04/2018 - 19:31
Ranchi : राजधानी रांची के स्कूलों में मार्च और अप्रैल के महीनों में स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के पैरेन्ट्स को स्कूल फीस के नाम पर खूब टेंशन होता है. इस संदर्भ में प्रशासन ने कई आदेश  भी जारी किए हैं. री एडमिशन और डेवलपमेंट चार्ज जैसे कई तरह के चार्ज स्कूल एडमिनिस्ट्रेशन वसूलता है. लेकिन ये जानकर आपको बेहद हैरानी होगी कि रांची के क्लूनी कॉन्वेंट स्कूल द्वारा अब बिजली बिल भी वसूला जा रहा है. जिससे बच्चों के अभिभावकों पर आर्थिक बोझ बढ़ गया है और वे बेहद परेशान हैं.

कंबल घोटालाः एजी ने झारक्राफ्ट से धागा कंपनी और फिनिशिंग करने वाली कंपनी से पेमेंट वापस लेने को कहा

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 03/21/2018 - 07:28
  • एक ही गाड़ी से दो जगहों पर कंबल की ट्रांसपोर्टिंग की गयी.
  • विकास आयुक्त ने सारे भुगतान बंद कर कार्रवाई करने को कहा

Akshay Kumar Jha

NEWSWING EXCLUSIVE: नौ लाख कंबलों में सखी मंडलों ने बनाया सिर्फ 1.80 लाख कंबल, एक दिन में चार लाख से अधिक कंबल बनाने का बना डाला रिकॉर्ड, जानकारी के बाद भी चुप रहा झारक्राफ्ट

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 03/19/2018 - 18:55

Akshay Kumar Jha 
Ranchi:
ठंड में गरीबों को दिए जाने वाले कंबलों में भी घोटाला कर देना, यह काम कोई झारक्राफ्ट और झारखंड सरकार के अफसरों से सीख सकता है. सखी मंडल और बुनकर समिति को रोजगार का दिलासा दिला कर घोटाला कर देना. सरकार की तरफ से ऐसा करने वालों पर कार्रवाई नहीं करना. ‘बेदाग सरकार’ का ‘दंभ’ भरने वाले लोगों की मंशा पर सवाल उठाता है. सीएम ने 25 से ज्यादा बार इस बात की घोषणा की कि इस बार कंबल सखी मंडल और बुनकर समिति बनाएगा और राज्य का पैसा राज्य में ही रहेगा.

NEWSWING EXCLUSIVE: झारखंड की बेदाग सरकार में हुआ 18 करोड़ का कंबल घोटाला, न सखी मंडल ने कंबल बनाये, न ही महिलाओं को रोजगार मिला

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 03/19/2018 - 17:07

Akshay Kumar Jha
Ranchi:
झारखंड सरकार करोड़ों रुपये इस बात का प्रचार करने पर खर्च कर रही है कि झारखंड में पहली बार "बेदाग सरकार" है. मुख्यमंत्री यह कहते रहें है कि उनकी सरकार पर कोई दाग नहीं है. लेकिन यह सच नहीं है. सरकार में कई दाग लगे. ताजा दाग कंबल घोटाला का है. इसमें गरीबों को ठगा गया, सखी मंडल को अंधेरे में रखा गया और फर्जी तरीके से बताया गया कि महिलाओं को रोजगार दिया गया.

loading...
Loading...