खूंटी : दो साल से हक के लिए लड़ रहीं दो बहनें, डीसी से मिला आश्वासन

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/10/2018 - 17:41

Khunti : जिले के तोरपा प्रखंड के डोडमा गांव की दो सगी बहनों ने बाल कल्याण समिति खूंटी के अध्यक्ष मनोज राय पर गंभीर आरोप लगाये हैं. उन बहनों ने   मनोज राय पर धमकाकर समझौता कराने का आरोप लगाया है. डीसी डॉ मनीष रंजन से मिलकर उषा भेंगरा व उसकी छोटी बहन राजलक्ष्मी भेंगरा ने इसकी लिखित शिकायत की है. दोनों बहनों ने बताया कि उसके फौजी पिता दुर्गाचरण भेंगरा ने 2014 में परिवार को छोड़कर दूसरी शादी कर ली और तब से वे लोग अपने हक के लिए लड़ रही हैं. इन बहनों का कहना है कि उनके पिता  वर्तमान में कहां हैं, अभी उन्हें यह मालूम नहीं है. बड़ी बहन उषा ने डीसी से आग्रह किया कि उसके पिता या तो उन लोगों के साथ मिलकर रहें. या फिर हर महीने जो रकम भेजने की बात हुई है, वो भेजे क्योंकि परिवार गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहा है और दोनों बहनों की पढ़ायी भी बाधित हो रही है. 

दिये गये आवेदन में उषा ने कहा है कि 27 मार्च 2016 को उसके पिता ने घरेलू कलह को बाद दोनों बहनों को भूखा रखा था और एक कमरे में बंद कर दिया था. लेकिन शाम को काफी कोशिश के बाद उसने बाल कल्याण समिति की मरियम आईंद को फोन कर घटना की सूचना दी. तब तत्कालीन तोरपा थाना प्रभारी ने आकर दोनों को मुक्त कराया.

इसे भी पढ़ें - जेएमएम के कोयला चोर विधायक योगेंद्र प्रसाद महतो की सदस्यता खत्म, 31 जनवरी को कोर्ट ने सुनायी थी सजा

दो साल बीत गये, लेकिन नहीं मिली राहत

उषा ने बताया कि 28 मार्च 2016 को खूंटी में महिला थाना प्रभारी आराधना सिंह से उन्हें मिलने को कहा गया. आराधना सिंह ने पूछताछ के बाद उन्हें बाल कल्याण समिति भेज दिया. जहां अध्यक्ष मनोज राय ने उनसे कहा कि पिता से रकम लेकर यदि समझौता नहीं करेगी,तो तुम लोगों को अनाथालय में डाल देंगे. इसके साथ ही अध्यक्ष ने कहा कि अब तुम लोगों के साथ ऐसी घटना दोबारा नहीं घटेगी. उषा ने बताया कि इसके बाद समझौता पत्र पर हस्ताक्षर करवाया गया और साथ ही अध्यक्ष ने कहा कि वे महीने में एक बार उनसे मिलने आयेंगे. लेकिन दो साल बीत जाने के बाद भी आज तक उनका अता-पता नहीं है.                

दोनों बहनों ने जिले के उपायुक्त से शिकायत की है और डॉ मनीष रंजन ने इसे गंभीरता से लिया है. उन्होंने फौजी दुर्गाचरण के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने की अनुशंसा के साथ आर्थिक सहयोग करने की बात कही है.

इसे भी पढ़ें - खुले पैसे के बदले चॉकलेट देने पर खैर नहीं, विशाल मेगा मार्ट पर लगा 50 हजार रुपये का जुर्माना

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.