न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Maharashtra: सियासी उलटफेर पर बोले पवार- BJP के साथ जाने का अजित पवार का फैसला व्यक्तिगत

संजय राउत ने कहा- शिवसेना की पीठ में छुरा घोंपा गया

1,062

New Delhi: महाराष्ट्र में बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. नाटकीय घटनाक्रम के तहत देवेंद्र फड़णवीस के मुख्यमंत्री और अजित पवार के उपमुख्यमंत्री के तौर पर शनिवार सुबह करीब 8 बजे शपथ ली.

ऱातों-रात बदले इस सियासी समीकरण पर प्रतिक्रिया देते हुए एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि यह अजित पवार का निजी फैसला है, न कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का.

JMM

इसे भी पढ़ेंःलातेहार नक्सली हमले के बाद चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, पूर्व DGP एमके दास को बनाया विशेष पुलिस पर्यवेक्षक

शरद पवार ने ट्वीट किया, ‘‘महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए भाजपा को समर्थन देने का अजित पवार का फैसला उनका व्यक्तिगत निर्णय है. यह राकांपा का फैसला नहीं है. हम यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि हम इस फैसले का समर्थन नहीं करते.’’

170 विधायकों का समर्थन- BJP MLA

बीजेपी और एनसीपी ने मिलकर महाराष्ट्र में सरकार तो बना ली है. लेकिन कहा जा रहा है कि गठबंधन के पास बहुमत का आंकड़ा नहीं है.

इन अटकलों के बीच बीजेपी विधायक गिरिश महाजन ने दावा किया है कि बीजेपी के साथ 170 विधायक हैं. और एनसीपी नेता अजीत पवार ने भाजपा को समर्थन देने की चिट्ठी राज्यपाल को सौंपी है.

इसे भी पढ़ेंः#Maharashtra सियासी उलटफेर: देवेंद्र फडणवीस ने फिर संभाली CM पद की कमान, अजित पवार बने उपमुख्यमंत्री

वहीं बीजेपी पर लगातार हमलावर शिवसेना नेता संजय राउत के बयानों पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि राउत को वर्बल डायरिया हुआ है. शिवसेना के कुछ एमएलए भी राउत से निराश हो चुके हैं, और भाजपा के साथ आने का मन बना रहे हैं.

अंधेरे में अजीत पवार ने डाका डाला- राउत

Related Posts

#JNUStudents का फीस बढ़ोतरी को लेकर राष्ट्रपति भवन मार्च, पुलिस का लाठीचार्ज

जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन ने घोषणा कि है कि अगर फीस कम नहीं की गयी तो वे पढ़ाई के बाद अब परीक्षा का भी बहिष्कार करेंगे.

वहीं बीजेपी के साथ मिलकर अजीव पवार के सरकार बनाने पर शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत भड़के. उन्होंने कहा कि राकांपा नेता अजित पवार ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए भाजपा से हाथ मिला कर शिवसेना की पीठ में छुरा घोंपा है. राउत ने पत्रकारों से यह भी कहा कि राज्य अजित पवार को उनके इस कृत्य के लिए कभी माफ नहीं करेगा.


इसे भी पढ़ेंः#Latehar: चुनाव के बीच नक्सलियों ने बड़ी घटना को दिया अंजाम, एएसआइ समेत चार जवान शहीद

उन्होंने कहा, ‘‘अजित पवार ने शिवसेना की पीठ में छुरा घोंपा है. सरकार बनाने के लिए भाजपा से हाथ मिलाना विश्वासघात है. अजित पवार के फैसले में राकांपा प्रमुख शरद पवार की मंजूरी नहीं है.’’

उन्होंने जानकारी दी कि शरद पवार और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे दिन के साढ़े 12 बजे एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करेंगे.

जनादेश से विश्वासघात हुआ: कांग्रेस

इधर कांग्रेस ने महाराष्ट्र में अप्रत्याशित राजनीतिक घटनाक्रम में देवेंद्र फड़णवीस को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाए जाने को जनादेश के साथ विश्वासघात और लोकतंत्र की सुपारी देना करार दिया है.

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया, ‘मुझे मत देखो यूं उजाले में लाकर, सियासत हूं मैं, कपड़े नहीं पहनती. इसे कहते हैं: जनादेश से विश्वासघात, लोकतंत्र की सुपारी.’

इससे पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि कांग्रेस, शिवसेना और राकांपा को तीन दिनों के भीतर बातचीत पूरी कर लेनी चाहिए थी.

सिंघवी ने ट्वीट किया, ‘ महाराष्ट्र के बारे में पढ़कर हैरान हूं. पहले लगा कि यह फर्जी खबर है. निजी तौर पर बोल रहा हूं कि तीनों पार्टियों की बातचीत तीन दिन से ज्यादा नहीं चलनी चाहिए थी. यह बहुत लंबी चली. मौका दिया गया तो फायदा उठाने वालों ने इसे तुरंत लपक लिया.’

उन्होंने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले अजित पवार पर तंज कसते हुए कहा, ” पवार जी तुस्सी ग्रेट है. अगर यही सही है तो आश्चर्यजनक है. अभी यकीन नहीं है.”

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में अप्रत्याशित राजनीतिक घटनाक्रम में राज्यपाल ने शनिवार सुबह देवेंद्र फड़णवीस को मुख्यमंत्री और अजित पवार को उप मुख्यमंत्री पद के लिए शपथ दिलाई.

इसे भी पढ़ेंःलातेहार में नक्सली हमले में शहीद चार जवानों को डीजीपी ने दी श्रद्धांजलि

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like