Skip to content Skip to navigation

सीजन-5 में नई शुरूआत को तैयार हैं दिल्ली के 'दबंग' : कोच

नई दिल्ली: वीवो प्रो कबड्डी लीग की फ्रेंचाइजी टीम-दबंग दिल्ली के मुख्य कोच रमेश भेंडिगिरी का कहना है कि लीग के पांचवें सीजन में नए बदलावों के बीच उनकी टीम नई शुरूआत के लिए तैयार है।

रविवार को राजधानी दिल्ली का दिल कहे जाने वाले कनॉट प्लेस में राहगिरी के अवसर पर मौजूद एक समारोह में कोच रमेश ने आईएएनएस के साथ बातचीत में यह बात कही।

इस समारोह में कोच को साथ टीम के खिलाड़ी नीलेश शिंदे, बाजीराव होडागे, रवि दलाल, रोहित बालियान और सुनील कुमार भी मौजूद थे।

उल्लेखनीय है कि पिछले चार सीजन में दिल्ली का प्रदर्शन निराशाजनक रहा। इन चार सीजन के दौरान लीग में केवल आठ टीमें थीं, लेकिन पांचवें सीजन में कुल 12 टीमें एक-दूसरे से प्रतिस्पर्धा करेंगी और इस कारण दिल्ली का संघर्ष और भी मुश्किल हो जाएगा।

ऐसे में पिछले प्रदर्शन को देखते हुए इस सीजन में दिल्ली के लिए 12 टीमों में अपना वर्चस्व कायम रख पाना मुश्किल नजर आता है, लेकिन दूसरे और तीसरे सीजन में तेलुगू टाइटंस के कोच रहे रमेश आश्वस्त हैं कि दिल्ली एक नई शुरूआत करेगी।

रमेश ने कहा, 'पिछले सीजन में देखा जाए, तो दिल्ली का प्रदर्शन बहुत अच्छा था। मैं पहली बार कबड्डी लीग में शामिल नहीं हो रहा हूं। पिछले चार सीजन से मैं इसमें हूं। मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि दिल्ली इस बार अच्छा प्रदर्शन करेगी, क्योंकि इस बार टीम में कप्तान मिराज शेख, शिंदे, बाजीराव, बालियान जैसे खिलाड़ी हैं। हमें इस बार अच्छे खिलाड़ी हैं और इस बार मुंबई में हुए शिविर से नए युवा खिलाड़ी भी टीम के साथ जुड़े हैं।'

दिल्ली के नए मुख्य को बने रमेश महाराष्ट्र के कबड्डी खिलाड़ी रहे हैं। पूना विश्वविद्यालय से कबड्डी में पीएचडी करने वाले रमेश 2012 में विश्व कप में वह महिला कबड्डी टीम के कोच रहे और इसके बाद चार साल तक उन्होंने थाईलैंड की महिला टीम का कोच के रूप में मार्गदर्शन किया। उनके मार्गदर्शन में थाईलैंड की टीम ने एशियाई खेलों में रजत पदक जीता। वह महाराष्ट्र के भी मुख्य कोच रह चुके हैं।

तीन माह तक चलने वाले लंबे सीजन के कारण खिलाड़ियों का खेल में बने रहना थोड़ा मुश्किल नजर आता है। इस पर प्रकाश डालते हुए कोच ने कहा, "12 टीमों के कारण सीजन बड़ा है और हर टीम का ध्यान खिलाड़ियों की फिटनेस पर है। ऐसे में हम भी खिलाड़ियों की फिटनेस पर अधिक ध्यान दे रहे हैं। अभी हमने 10-12 दिन तक 80 प्रतिशत तक फिटनेस पर ध्यान दिया और अगले सप्ताह हम कुशल तकनीक पर ध्यान देंगें। इस समय पर इंजुरी होने के संभावनाएं अधिक है और इसिलए, हम अभी फिटनेस पर ध्यान दे रहे हैं।"

कोच रमेश ने कहा कि दिल्ली की टीम इस बार डिफेंस में बेहद मजबूत है क्योंकि शिंदे, बाजीराव और सुनील अच्छे डिफेंडर हैं। टीम में रीटेन किए गए कप्तान मिराज शेख ऑल-राउंडर की भूमिका में है। ऐसे में टीम हर क्षेत्र में अच्छी है, लेकिन उसका डिफेंस मजबूत है।

दिल्ली के कप्तान मिराज को पांचवें सीजन के लिए रीटेन किया गया था, वहीं टीम में शामिल किए गए शिंदे तीसरे सीजन में बंगाल वॉरियर्स के कप्तान के तौर पर नजर आए थे और उनकी कप्तानी में बंगाल ने सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था।

ऐसे में टीम के कप्तान के चुनाव पर कबड्डी में पीएचडी करने वाले कोच ने कहा, 'अभी प्रबंधन ने मिराज को आधिकारिक रूप से टीम का कप्तान रखा है। उनका अभी भारत आना बाकी है और उसके बाद स्पष्ट रूप से कुछ कहा जाएगा। हालांकि मेरे विचार में मिराज ही कप्तान रहेंगे।' -मोनिका चौहान

Top Story
Share

INTERNATIONAL

News Wing
Taupo, 23 September: न्यूजीलैंड की जनता आज राष्ट्रीय चुनाव के मतदान में हिस्सा ले...

UTTAR PRADESH

News Wing Shahjahanpur, 22 September: समाजसेवी ने बलात्कार के दोषी बाबा राम रहीम की राजदार हनीप्रीत...
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us