Skip to content Skip to navigation

एसी-डीसी बिल में 5 हजार 471 करोड़ की लूट- 10

News Wing

Ranchi, 12 August: वित्तीय वर्ष 16 साल में सरकारी विभागों ने एसी-डीसी बिल में 5 हजार 471 करोड़ की लूट की है. सीएजी की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है. गौरतलब है कि विभाग आकस्मिक खर्च के लिए एसी बिल के नाम पर निकासी करते हैं. इसके लिए विभाग को वाउचर नहीं लगाना पड़ता है, लेकिन नियम के मुताबिक राशि निकासी के 25 दिन के भीतर विभाग को खर्च का ब्यौरा एजी ऑफिस को देना होता है. 2000 से 2016 तक विभिन्न विभाग ने 17 हजार 81 करोड़ रुपये की निकासी एसी बिल से की थी, इसी राशि में से 5 हजार 471 करोड़ का डीसी बिल बकाया है.

सीएजी की पूरी रिपोर्ट पढ़ें 
Report:-1
2
3
4
5
6
7
8
9  ( सुनिये/देखिये वित्तीय गड़बड़ी के बारे में क्या कहा सीएजी नें )

22 हजार 325 करोड़ के उपयोगिता प्रमाण पत्र लंबित

राज्य सरकार से विभिन्न विभागों और संस्थाओं को अनुदान प्राप्त होता है. अनुदान को किस उद्देश्य के लिए खर्च किया गया है उसका उपयोगिता प्रमाण पत्र 12 महीने के अंदर एजी ऑफिस को देना होता है. 2014-15 तक 22 हजार 325 करोड़ रुपये के उपयोगिता प्रमाण पत्र 31 मार्च 2016 तक लंबित थे. सरकार को मालूम नहीं है कि यह राशि किस उद्देश्य के लिए खर्च की गयी है.

Top Story
Share
loading...