न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#MarsPlanet पर भी कभी पृथ्वी की तरह खारे पानी की झील थी : अध्ययन

1,083

Houston : मंगल ग्रह पर कभी खारे पानी की झीलें थीं, जो पृथ्वी की तरह कई बार सूखीं और फिर पानी से भर गयी. एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है जो दर्शाता है कि लाल ग्रह की जलवायु लंबे समय के अंतराल में पूरी तरह शुष्क हो गया.

शोधकर्ताओं के अनुसार मंगल पर लाल पानी संभवत: टिकने योग्य नहीं रहा और ग्रह का वातावरण शुष्क होने से वाष्प बनकर उड़ गया . साथ ही सतह पर दबाव कम हो गया . इसमें अमेरिका की टेक्सास ए एंड एम यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता भी शामिल हैं .

इसे भी पढ़ें :  #NobelLaureateBanerjeeCouple ने कहा, भाजपा भी  #UniversalBasicIncome योजना मांगती, तो उसे भी देते

तीन अरब वर्ष पहले गेल क्रेटर में मौजूद झील मंगल ग्रह के शुष्क होने के साथ सूख गयी

Trade Friends

नेचर जियो साइंस पत्रिका में छपे इस अध्ययन में बताया गया है कि करीब तीन अरब वर्ष पहले गेल क्रेटर में जो झील मौजूद थी वह मंगल ग्रह के शुष्क होने के साथ संभवत: सूख गयी . इस 95 मील चौड़े पहाड़ी बेसिन का अध्ययन नासा का क्यूरोसिटी रोवर 2012 से कर रहा है. अध्ययन में बताया गया है कि करीब तीन करोड़ 60 लाख वर्ष पहले एक उल्का पिंड के मंगल ग्रह से टकराने के कारण गेल क्रेटर बना.

टेक्सास ए एंड एम यूनिवर्सिटी के अनुसंधान के लेखक मारियन नाचों ने बताया, गेल क्रेटर से पता चलता है कि मंगल ग्रह पर तरल जल मौजूद था जो सूक्ष्मजीवी जीवन के लिए मुख्य कारक है. साइंस पत्रिका  के अनुसार खारे पानी के तालाब सूखने की प्रक्रिया के दौरान बने .

यह कहना कठिन है कि ये तालाब कितने बड़े थे लेकिन गेल क्रेटर की झील लाखों वर्षों तक मौजूद रही . शोधकर्ताओं ने बताया कि मंगल ग्रह पर खारे पानी के तालाब उसी तरह के थे जैसे पृथ्वी पर बोलीविया-पेरू की सीमा के नजदीक आल्टीप्लाने क्षेत्र में मौजूद खारे पानी की तालाब की तरह होते हैं.

इसे भी पढ़ें :  #IndiaUsDefenseBusiness एक लाख, 20 हजार करोड़ पर पहुंचने की संभावना

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like