तिरहुत डायरी

अंग्रेजिया कॉलेजिया बाबू हो, बुद्धि, शिक्षा और संस्कार से च्युत हो, अगर तुम्हारा मूल-गोत्र व पुरखे का नाम पूछ दिया जाए तो दाँत निपोड़ लोगे

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 04/17/2018 - 09:53

"खट्टरकाका "की डायरी से 

Vijay deo jha

खट्टारकका: आबह सी.सी. आई तोहर मोन किएक उतरल छौ।

सी.सी. मिश्रा: मोन इसलिए झुंझुआन और कोनादन कर रहा है कि आई मधुबनी पेंटिंग से सज्जनित मधुबनी रेलवे स्टेशन गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में स्थान स्थान बनाने से चूक गया। 7000 वर्ग फ़ीट दीवाल पर 180 कलाकारों ने दिनरात मेहनत कर मधुबनी पेंटिंग बनाया लेकिन रेलवे के हाकिम इतने ही मुर्खाधिपति थे कि उन्होंने रेकॉर्ड बनाने के अभियान की शुरुआत से पहले गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जरूरी रजिस्ट्रेशन करबाया ही नहीं था। सब उदास हैं। 

loading...
Loading...