ओडीएफ पंचायत का सच : बगैर शौचालय निर्माण के संवेदक ने कर ली राशि की निकासी, लोग खुले में शौच को मजबूर

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 05/09/2018 - 21:45

Chatra : चतरा के गिद्धौर प्रखंड स्थित बारीयातु पंचायत पिछले साल ही अप्रैल में ओडीएफ घोषित हुआ, लेकिन इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही है. आज भी इस पंचायत के ग्रामीण खुले में शौच जाने पर मजबूर हैं. कारण एक वर्ष के बाद भी सैकड़ों शौचालयों का निर्माण अधूरा है. लेकिन पैसे की निकासी पूरी कर ली गई है. इसका खुलासा तब हुआ जब प्रखंड 20 सूत्री कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के अध्यक्ष चिंतामन दांगी के नेतृत्व में टीम गठित कर शौचालय निर्माण की जांच की गई. टीम में सांसद प्रतिनिधि रामानंद दांगी, 20 सूत्री सदस्य सह गिद्धौर के उप मुखिया सुरेश प्रसाद राणा शामिल थे. 20 सूत्री अध्यक्ष ने बताया की बारीयातु पंचायत के सिमरातरी, भुरकुंडा, लुब्धिया, महुआडांड़, मसूरिया, जमुआ, चिरैया, बारियातु सहित अन्य गांवों के ग्रामीणों ने शौचालय निर्माण अधूरा रहने व पैसे की निकासी पूरी कर लेने की शिकायत दर्ज करवाई थी. शिकायत के आलोक में टीम का गठन कर मामले की जांच की गई और जांच में मामला सही पाया गया. इन गांवों में सैकड़ों ग्रामीणों का शौचालयों को जांच टीम ने अधूरा पाया, जबकि कई शौचालयों की महज दीवार ही खड़ी की गई है.

इसे भी पढ़ें- रिम्स के पीजी डॉक्टरों ने बॉन्ड भरने के विरोध में निदेशक कार्यलाय के समक्ष दिया धरना 

जांच के बाद होगी कार्रवाई : उपायुक्त

अपनी परेशानी का इजहार करते हुए ग्रामीण कहते हैं कि शौचालय निर्माण पूरा भी नहीं हुआ और पैसे की पूरी निकासी कर ली गई है. वहीं टीम के सदस्यों ने बताया कि इसकी शिकायत मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री से की जाएगी. जबकि उपायुक्त से टीम गठित का जल्द जांच की बात कही है. इधर बीडीओ एजाज हुसैन अंसारी ने भी बारीयातु पंचायत में शौचालय निर्माण अधूरा रहने की शिकायत पर जांच और दोषी लोगों पर सख्त कर्रवाई की बात कही है.

इसे भी पढ़ें- पूर्व नक्सली धरम नाथ महतो का खुलासा : 2006 में ही सुदेश महतो की हत्या का था प्लान 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na