न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Sci&Tech अब सेटेलाइट की मदद से होगी देश के पेड़ों और जंगलों की निगरानी

1,268

New Delhi :  देश के हरित क्षेत्र को बढ़ाने के लिए शुरु किये सघन वानकीकरण और वृक्षारोपण अभियान में लगे पेड़ों की निगरानी में अब उपग्रह की मदद ली जायेगी. पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसकी जानकारी दी है.

इस बाबत हरित क्षेत्र को बढ़ाने के लिए गठित ‘कैंपा फंड’ के व्यय की समीक्षा के लिए सभी राज्यों के वन मंत्रियों की एक बैठक की गयी है. गौरतलब है कि हरित और वन क्षेत्र में विस्तार के लिए पिछले पांच साल में 12 करोड़ पेड़ लगाये गये हैं. पेड़ों के उचित रखरखाव और वृद्धि पर निगरानी के लिए उपग्रह आधारित तंत्र विकसित किया जा रहा है.

JMM

इसे भी पढ़ेंः #AmitShah ने नॉर्थ-ईस्ट के नेताओं के साथ बैठक की,  #CAB पर आशंकाएं दूर करने की कवायद 

SC के हस्तक्षेप के बाद उठाया गया कदम

उल्लेखनीय है कि सरकार ने विकास परियोजनाओं के कारण पर्यावरण को हो रहे नुकसान की भरपाई के लिए 2009 में उच्चतम न्यायालय के आदेश पर 47 हजार करोड़ रुपये का एक पृथक कोष (कैंपा फंड) स्थापित किया. पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री की अध्यक्षता वाले कैंपा फंड के तहत सभी राज्यों को विकास कार्यों के कारण हरित क्षेत्रों को होने वाले नुकसान की भरपाई, नये हरित क्षेत्र विकसित करके की जाती है.

कैंपा फंड के तहत चल रहे वानिकीकरण एवं वृक्षारोपण अभियानों की समीक्षा के लिए पिछले चार महीनों में यह दूसरी बैठक थी. इसमें 12 राज्यों के वन मंत्रियों और अन्य राज्यों के वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

इसे भी पढ़ेंः #DevisCup लिएंडर पेस ने अपना रिकार्ड बेहतर किया, पाक को हराकर भारत विश्व ग्रुप क्वालीफायर में

जियो कोऑर्डीनेट तकनीक की मदद ली जायेगी

उन्होंने बताया कि पूरे देश में लगाये जा रहे पेड़ों की सघन निगरानी उपग्रह की मदद से की जायेगी. इसमें जियो कोऑर्डीनेट तकनीक से पेड़ों का ब्योरा सूचीबद्ध कर यह सुनिश्चित किया जायेगा कि एक विशिष्ट अवधि में कितना जंगल लगा और इसकी वार्षिक वृद्धि कैसी और कितनी है.

इससे यह भी पता चल सकेगा कि पिछले पांच साल में लगाये गये 12 करोड़ पेड़ किस गति से बढ़ रहे हैं, इनमें से कितने बचे और कितने नष्ट हो गये. सैटेलाइट से मिली इस तरह की सभी जानकारियां सार्वजनिक की जायेंगी. इसके लिए पूरी तकनीक विकसित की जा रही है.

इसे भी पढ़ेंः #ShivSena ने सोनिया गांधी, राहुल और  प्रियंका की #SPG सुरक्षा हटाने पर चिंता जताई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like