न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Article370 को खत्म किए जाने के 39 दिन बाद भी कश्मीर में जनजीवन प्रभावित

639

Srinagar : कश्मीर में गुरुवार को भी स्कूल बंद रहे और सार्वजनिक वाहन सड़कों से नदारद रहे. अनुच्छेद 370 के अधिकांश प्रावधानों को खत्म किए जाने के 39वें दिन बाद भी कश्मीर में जनजीवन प्रभावित है.

इसे भी पढ़ें- # KashmirIssue : आखिर पाकिस्तानी मंत्री शाह ने कबूला, कश्मीर मसले पर हमारी कोई नहीं सुन रहा

JMM

सुरक्षा बल अब भी तैनात

घाटी के ज्यादातर इलाकों से आवाजाही और लोगों के इकट्ठा होने पर लगी पाबंदियों को हटा लिया गया है. हालांकि अधिकारियों के मुताबिक कानून-व्यवस्था को कायम रखने के लिए सुरक्षा बल अभी भी वहां पर तैनात हैं.

उन्होंने कहा कि अधिकारी मोबाइल संचार पर पाबंदियों में ढील देने और वॉयस कॉल सेवाओं को बहाल करने पर भी विचार कर रहे हैं. हालांकि पूरी घाटी में लैंडलाइन काम कर रहे हैं लेकिन मोबाइल पर वॉयस कॉल केवल उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा और हंदवाड़ा पुलिस क्षेत्रों में ही हो पा रही हैं.

Related Posts

#CitizenshipAmendmentBill पर बोले शशि थरूर, भारत का स्तर गिरकर पाकिस्तान का हिन्दुत्व संस्करण  हो जायेगा

नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होने का मतलब महात्मा गांधी के विचारों पर मोहम्मद अली जिन्ना के विचारों की जीत होगा.

इसे भी पढ़ें- #SoniaGandhi ने कहा, देश आर्थिक मंदी की चपेट में, पर मोदी सरकार बदले की राजनीति में व्यस्त

घाटी में सामान्य जन जीवन अभी भी प्रभावित

अधिकारियों ने कहा कि घाटी में सामान्य जन जीवन अभी भी प्रभावित है. बाजार और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे और सड़कों से गाड़ियां नदारद रहीं. इंटरनेट सेवाएं पूरी तरह से ठप हैं.

स्कूलों को फिर से खोलने के राज्य सरकार के प्रयासों का कोई फल नहीं निकला क्योंकि सुरक्षा को लेकर चिंता के कारण माता-पिता बच्चों को घर से बाहर नहीं भेज रहे.

शीर्ष स्तर के ज्यादातर अलगाववादी नेताओं को हिरासत में रखा गया है जबकि पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत मुख्यधारा के नेताओं को हिरासत में या नजरबंदी में रखा गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like