न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

44 अमेरिकी सांसदों ने डॉनल्ड ट्रंप को पत्र लिखा,  भारत को फिर से #GSP का दर्जा देने की मांग

ट्रंप प्रशासन ने सामान्य तरजीही प्रणाली (GSP) को 5 जून को खत्म कर दिया था. खबरों के अनुसार अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइथिजर ने 17 सितंबर को पत्र लिखा है.

60

Washington : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की बैठक से पहले 44 अमेरिकी सांसदों ने अपनी सरकार पर प्रेशर डालते हुए भारत को फिर से GSP का दर्जा देने की मांग की है. इन सांसदों ने ट्रंप प्रशासन को पत्र लिखकर GSP दर्जा दोबारा बहाल करने की अपील की है. जान लें कि ट्रंप प्रशासन ने सामान्य तरजीही प्रणाली (GSP) को 5 जून को खत्म कर दिया था. खबरों के अनुसार अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइथिजर ने 17 सितंबर को पत्र लिखा है.

पत्र में उन्होंने जल्द से जल्द यह कदम उठाने की सलाह दी है ताकि बाकी मुद्दों की वजह से अमेरिकी उद्योग बड़े बाजार की पहुंच के फायदों से वंचित ना रह जाये. रॉबर्ट लाइथिजर के अनुसार हमारे मतदाताओं को इसकी कीमत चुकानी पड़ रही है. इसमें हर दिन वृद्धि हो रही है.

Jmm 2

अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार अमेरिका द्वारा GSP वापस लेने का भारत पर बहुत अधिक आर्थिक असर नहीं है, लेकिन ये मुद्दे लंबी अवधि में बड़े बन सकते हैं. अर्जेंटीना, लाइबेरिया और म्यांमार ऐसे कुछ देश में जिनके लिए अमेरिका ने बेनिफिट बहाल कर दिये हैं. इन देशों ने इसके लिए अमेरिका की ओर से लगाई गयी शर्तों को स्वीकार किया था.

इसे भी पढ़ें- Pok पर विदेश मंत्री जयशंकर के बयान से बौखलाया पाकिस्तानअंतरराष्ट्रीय समुदाय से संज्ञान लेने का आग्रह 

Related Posts

#GSTCompensation :  शिवसेना ने मोदी सरकार को चेताया, कहा,  केंद्र और राज्यों के बीच संघर्ष छिड़ सकता है

मुखपत्र सामना में प्रकाशित संपादकीय में कहा, जीएसटी लागू होने की वजह से राज्यों को होने वाले राजस्व के नुकसान की मद में 50,000 करोड़ रुपये का भुगतान करने का केंद्र ने वादा किया था.

भारत 2017 में जीएसपी कार्यक्रम का सबसे बड़ा लाभार्थी रहा

अमेरिका द्वारा अन्य देशों को व्यापार में दी जाने वाली तरजीह की सबसे पुरानी और बड़ी प्रणाली GSP यानी जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंसेज है. इसकी शुरुआत 1976 में विकासशील में आर्थिक वृद्धि बढ़ाने के लिए की थी. GSP दर्जा प्राप्त देशों को हजारों सामान बिना किसी शुल्क के अमेरिका को निर्यात करने की छूट मिलती है. भारत 2017 में जीएसपी कार्यक्रम का सबसे बड़ा लाभार्थी रहा. वर्ष 2017 में भारत ने इसके तहत अमेरिका को 5.7 अरब डॉलर का निर्यात किया था.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

अभी तक लगभग 129 देशों को करीब 4,800 गुड्स के लिए GSP के तहत फायदा मिला है. बता दें कि पीएम मोदी 21-27 सितंबर तक अमेरिकी दौरे पर होंगे, जिसके दौरान वह संयुक्त राष्ट्र की आम सभा सत्र को संबोधित करेंगे.  इसके अलावा न्यू यॉर्क में कई द्विपक्षीय और बहुपक्षीय समझौते करेंगे.  ट्रंप पीएम मोदी के साथ भारतीय समुदाय के कार्यक्रम हाउडी मोदी में भी शामिल होंगे.

इसे भी पढ़ें- यूरोपीय संसद में #KashmirIssue पर भारत का समर्थन, पाकिस्तान की निंदा, कहा, चांद से आतंकी नहीं आते
इसे भी पढ़ें –13 महीनों के वेतन पर बोले पुलिस कर्मी- ये ठीक वैसा ही है, जैसे कार देकर चारों टायर खोल लेना

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like