न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एयर फोर्स के लिए 54 इजरायली  HAROP ड्रोन खरीदे जायेंगे,  डील पर लगी मुहर  

यह ड्रोन दुश्मन के महत्वपूर्ण सैन्य ठिकानों (हाई-वैल्यू मिलिट्री टारगेट) को पूरी तरह से तबाह कर सकता है. एक उच्च स्तरीय बैठक में रक्षा मंत्रालय ने इन 54 हमलावर ड्रोनों की खरीद को मंजूरी दी है.

108

 NewDelhi :  रक्षा मंत्रालय ने 54 इजरायली HAROP ड्रोन खरीदने को मंजूरी दे दी है. समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह खबर दी है.  बताया जा रहा है कि यह ड्रोन दुश्मन के महत्वपूर्ण सैन्य ठिकानों (हाई-वैल्यू मिलिट्री टारगेट) को पूरी तरह से तबाह कर सकता है. एक उच्च स्तरीय बैठक में रक्षा मंत्रालय ने इन 54 हमलावर ड्रोनों की खरीद को मंजूरी दी है. भारतीय वायु सेना की मानवरहित युद्ध क्षमता को और मजबूत बनाने की दिशा में मोदी सरकार ने एक और कदम बढ़ाया है.   ये ड्रोन इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल सेंसर से लैस हैं, जो विस्फोट करने से पहले महत्वपूर्ण सैन्य ठिकानों और रडार स्टेशनों की निगरानी भी कर सकते हैं. इजराइल के हारोप ड्रोन दुश्मन के ठिकानों पर क्रैश होकर उन्हें तबाह कर देते हैं. फिलहाल वायुसेना के पास ऐसे करीब 110 ड्रोन हैं,  जिनका नाम बदलकर पी-4 रखा गया है.

सभी ड्रोन  हाई क्वालिटी अटैक ड्रोन में बदले जायेंगे

Trade Friends
WH MART 1

इसके साथ ही इजरायल के साथ प्रोजेक्ट चीता पर भी बात चल रही है. इसके तहत सीनों सेवाओं के सभी ड्रोन को हाई क्वालिटी अटैक ड्रोन में बदला जायेगा.  इसके साथ ही उनकी सर्विलांस क्षमताओं को भी बढ़ाया जायेगा. बताते चलें कि तीनों सेनाओं के पास 100 से अधिक ड्रोन विमानों की फ्लीट है, जिसे उन्होंने कई साल में हासिल किया है.  सेनाएं देसी कॉम्बेट ड्रोन को विकसित करने की दिशा में काम कर रही हैं, जिन्हें प्रोजेक्ट के पूरा हो जाने के बाद पाकिस्तान और चीन की सीमा पर तैनात किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें : मोदी सरकार ने बिना संसद की अनुमति खर्च किये 1,157 करोड़ :  कैग की रिपोर्ट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like