न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

676 व्यावसायिक शिक्षकों को 18 महीनों से नहीं दी सैलरी, अब 256 नये शिक्षकों को नियुक्त करने की तैयारी

364

Ranchi: झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद के 676 व्यावसायिक शिक्षकों को लगभग 18 महीनों से सैलरी नहीं मिली है. व्यावसायिक शिक्षक सैलरी पाने की आस में सीएम तक से गुहार लगा चुके हैं, पर अभी तक कुछ नहीं हुआ. इसके बावजूद 128 नये स्कूलों को इस योजना से जोड़ा जा रहा है.

इसके तहत अब 256 नये शिक्षकों को नियुक्त किया जायेगा. इस काम के लिए कंपनियों से आवेदन मांगे गये हैं जो इन शिक्षकों की नियुक्ति करेंगी. इससे पहले कुल 13 एजेंसियों ने विभिन्न ट्रेडों के शिक्षकों को नियुक्त कराया है.

Jmm 2

इसे भी पढ़ें – पीएम किसान सम्मान निधिः क्या #MODI और #BJP ने देश 5.72 करोड़ किसानों के साथ ठगी की!

33 वर्तमान स्कूलों की एजेंसियों को भी बदला जायेगा

33 वर्तमान स्कूलों के लिए एजेंसी बदलने के लिए भी कंपनियों से आवेदन मांगे गये हैं. फिलहाल 338 स्कूल में 13 एजेंसियों के माध्यम से 11 ट्रेडों के शिक्षक नियुक्त किये गये हैं. इनमें से 33 वर्तमान स्कूलों की एजेंसियों को बदलने की तैयारी कर रही है. इन 33 स्कूलों की एजेंसियों को बदलने के पीछे का कारण सैलरी का भुगतान नहीं होना हो सकता है. प्रत्येक स्कूल में दो ट्रेड की पढ़ाई करायी जाती है.

क्या है भुगतान की स्थिति

कंपनी का नामशिक्षकों को कितने महीने भुगतान नहीं
इंडस इंटीग्रेटेड इनफॉरमेशन मैनेजमेंट लिमिटेड18
ऑल इंडिया सोसायटी फॉर इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कंप्यूटर टेक्नोलॉजी16 महीने
वेंचर स्किल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड3 महीने
लेबर्नेट सर्विस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड13 महीने
टाइम सेंटर फॉर लर्निंगसैलरी का भुगतान कर दिया है
रोमन टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड4 महीने
इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज12 महीने
आइसीए एजुकेशन स्किल प्राइवेट लिमिटेड12 महीने
माइंड लीटर4 महीने
एसडीएम12 महीने
स्किल ट्री8 महीने

इसे भी पढ़ें – #MPSudarshanBhagat की CDPO पत्नी पर सब मेहरबान, तबादले के एक साल बाद भी पुरानी जगह ही जमीं

Bharat Electronics 10 Dec 2019

इन ट्रेडों की करायी जाती है पढ़ाई

  • ऑटोमोटिव
  • ब्यूटी एंड वेलनेस
  • रिटेल
  • हेल्थ केयर
  • टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी
  • सिक्योरिटी
  • मीडिया एंड एंटरटेनमेंट
  • मल्टी स्किल
  • इलेक्ट्रॉनिक्स एंड हार्डवेयर
  • एग्रीकल्चर
  • आइटी

इसे भी पढ़ें – ‘आंदोलन के लिए पांच-दस रुपये साप्ताहिक करते हैं जमा, बार-बार #Ranchi आना मुश्किल’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like