न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

600 रुपये की करीब 5 लाख साड़ियां, लागत 30 करोड़, वही कंपनी करेगी सप्लाई जिसका टर्न ओवर 1000 करोड़ 

4,705

Ranchi: झारखंड सरकार के श्रम रोजगार एवं प्रशिक्षण विभाग के झारखंड बिल्डिंग एंड अदर कंस्ट्रक्शन वर्कर्स वेलफेयर बोर्ड (Jharkhand Building and Other construction Workers Welfare Board) ने एक ऐसा अनोखा टेंडर निकाला है, जिससे टेंडर में हिस्सा लेने वाले सभी व्यवसायी हैरान हैं. चुनावी मौसम में सरकार की तरफ से राज्य के सभी महिला मजदूरों को साड़ी दी जानी है.

इसे भी पढ़ेंःविस चुनाव से पहले महागठबंधन को लेकर विपक्षी पार्टी में असमंजस की स्थिति बरकरार

विभाग ने प्लान किया है कि हर महिला को करीब 600 रुपए कीमत वाली साड़ी दी जाएगी. बोर्ड ने राज्य के सभी जिलों को पांच जोन में बांटा है. जिसमें रांची, जमशेदपुर, दुमका, हजारीबाग और बोकारो शामिल है. इन सभी जोन में हर जिले को मिला कर करीब पांच लाख साड़ी बांटने की योजना है.

साड़ी खरीदने के लिए टेंडर निकाला गया है, लेकिन उसमें यह शर्त रखी गयी है कि कंपनी का टर्नओवर कम-से-कम 1000 करोड़ होना चाहिए. ऐसा होने से झारखंड के सभी व्यवसायी हैरान हैं और अभी से ही टेंडर की रेस से अपने आप को बाहर समझ रहे हैं.

Trade Friends

योजना में लागत 30 करोड़ और टर्न ओवर 1000 चाहिए

श्रम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, पांचों जोन में करीब पांच लाख साड़ी बांटी जानी है. साड़ी की कीमत करीब 600 रुपए रखी गयी है. इस हिसाब से पूरे योजना की लागत करीब 30 करोड़ होगी.

लेकिन 30 करोड़ की लागत वाली योजना के लिए विभाग को 1000 करोड़ का टर्न ओवर चाहिए. जो कि सीवीसी के नियमों का साफतौर से उल्लंघन है. टेंडर डालने के इच्छुक कुछ लोगों का कहना है कि ऐसा करने के पीछे साफतौर से किसी बड़ी कंपनी को फायदा पहुंचाने की मंशा लगती है.

नहीं तो 30 करोड़ के टेंडर के लिए इतना भारी भरकम टर्न ओवर आज तक किसी टेंडर प्रक्रिया में नहीं देखा गया. कुछ लोगों ने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से टेंडर प्रक्रिया में अब टर्न ओवर की बाध्यता को खत्म करने की बात कही जा रही है.

इसके पीछे नए कंपनियों को बढ़ावा देने की वकालत है. ऐसे में 30 करोड़ की योजना में 1000 करोड़ का टर्नओवर होना सीधे तौर पर गलत है.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद : ओपेन कास्ट से चलने के लिए गांव में सड़क भी नहीं, मेहमान भी आने से करते हैं परहेज

जाने कहां बंटेंगी कितनी साड़ियां

रांची- 18447
खूंटी- 6568
लोहरदगा- 6227
गुमला- 7722
सिमडेगा- 4058
पलामू-18183
गढ़वा- 7836
लातेहार- 12340
पूर्वी सिंहभूम- 49019
पश्चिमी सिंहभूम- 12072
सरायकेला-खरसावां- 38455
दुमका- 20129
देवघर-22120
जामताड़ा-2191
गोड्डा-34936
साहेबगंज-10024
पाकुड़-15848
हजारीबाग-41808
गिरिडीह-19013
चतरा- 33309
कोडरमा-24839
रामगढ़-15166
बोकारो-12901
बोकारो थर्मल-24552
धनबाद-38868

इसे भी पढ़ेंःविदेशी निवेशकों का टूटा भरोसा- जुलाई से दोगुणा अगस्त में निकालें पैसे

SGJ Jewellers

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like