न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गव्य निदेशक पर अराजपत्रित कर्मियों के स्थानांतरण में अवैध वसूली का आरोप,  कार्रवाई की मांग

बीजेपी बिजुपाड़ा मंडल अध्यक्ष ने विभागीय सचिव को पत्र लिख कर शिकायत की

124

Ranchi : गव्य विकास निदेशालय के निदेशक डॉ कृष्ण मुरारी द्वारा अराजपत्रित कर्मियों के स्थानांतरण में वसूली किये जाने का आरोप लगाते हुए कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग के सचिव से शिकायत की गयी है. शिकायत रांची जिला अंतर्गत चान्हो क्षेत्र के बिजुपाड़ा बीजेपी मंडल अध्यक्ष अरविंद कुमार सिंह ने की है.

लिखित शिकायत की एक-एक प्रतिलिपि उन्होंने मुख्यमंत्री, कृषि एवं सहाकारिता विभाग के मंत्री, मुख्य सचिव सहित निदेशालय के सहायक निदेशक को भेजी है. शिकायत में स्थापना समिति में जूनियर सदस्य को नामित कर स्थानांतरण का खेल खेलने का आरोप लगाया  गया है.

Jmm 2

स्थानांतरण कर अवैध रूप से हो रही राशि की वसूली

अपनी शिकायत में अरविंद कुमार सिंह ने कहा है कि डॉ कृष्ण मुरारी आगामी 30 जुलाई तक गव्य निदेशक के पद पर कार्यरत हैं. यानि अगले एक माह में वे रिटायर होने वाले हैं. अरविंद कुमार सिंह  ने आरोप लगाया है कि अपने बचे हुए सेवाकाल में वे गव्य निदेशालय के अराजपत्रित कर्मियों का बड़े पैमाने पर स्थानांतरण कर रहे है.

ऐसा कर बड़े पैमाने पर अवैध रूप से राशि की वसूली की जा रही है. उन्होंने कहा कि सहायक निदेशक विभागीय मंत्री के अऩुमोदन प्राप्त कर स्थापना समिति के गव्य सदस्य है, जबकि डॉ कृष्ण मुरारी के द्वारा मनमाने तरीके से अपने एक जूनियर पदाधिकारी, जो सांख्यिकी पदाधिकारी है, को समिति में सदस्य नामित कर स्थानांतरण का खेल खेलने का प्रयास किया जा रहा है.

वरीय संयुक्त सचिव हो समिति का अध्यक्ष

लिखित शिकायत में बीजेपी अध्यक्ष ने विभागीय सचिव से मांग की है कि मामले में अविलंब ध्यान देते हुए विभागीय स्तर से  किसी वरीय संयुक्त सचिव को स्थापना समिति का अध्यक्ष नामित किया जाये, ताकि डॉक्टर कृष्ण मुरारी द्वारा स्थानांतरण में की जा रही मनमानी एवं अनियमितताओं को रोकने की कार्रवाई की जा सके.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

इसे भी पढ़ेंः विधायक कुणाल षाड़ंगी ने अपील कर कहा, बुके की जगह बुक्स दें

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like