न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बड़कागांव थानेदार पर ट्रैक्टर मालिक से 50 हजार घूूस लेने का आरोप

बड़कागांव थाना प्रभारी सुमन कुमार पर आरेाप है कि बालू लदे दो ट्रैक्टर पकड़ कर थाना ले आये

689

Hazaribagh : बड़कागांव थाना प्रभारी सुमन कुमार पर आरेाप है कि बालू लदे दो ट्रैक्टर पकड़ कर थाना ले आये और अंदर कर दिया. उसके बाद 12 बजे रात में दोनो ट्रैक्टरों के मालिक से दोनों ट्रैक्टरों को छोड़ने के 50  हजार रुपये लिये और दोनों ट्रैक्टर छोड़ दिये. आरोप है कि पुलिस प्रति ट्रैक्टर 10000 रुपया महीना लेती है.  यहां पर कई ट्रैक्टर बालू के धंधे में चल रहे हैं. खबरों के अनुसार कल शाम 5 बजे नया टोला निवासी पंकज ठाकुर का ट्रैक्टर लेकर उनके गांववाले बड़कागांव बेल नदी के पास रास्ता बनाने गये थे.

रास्ता बनाने के लिए बालू लाने नदी भेजा गया था ट्रैक्टर

रास़्ता खराब होने से लोगों को आने जाने में खास कर महिलाओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है.  उसी रास्ते को बनाने के लिए पंकज ठाकुर का ट्रैक्टर लेकर लेाग बेल नदी बालू लेने गये थे. बालू लोड करने के क्रम में बड़कागांव थाना प्रभारी सुमन कुमार बेल नदी के पास आये और ट्रैक्टर को जब़्त कर थाना ले आये. पंकज ठाकुर उस समय रांची आये हुए थे. उनको ग्रामीणों के द्वारा पता चला कि उनका ट्रैक्टर  जब्त करके थानेदार थाना ले आये हैं.  उन्होंने बड़कागांव थाना प्रभारी सुमन कुमार से बात की,  तो थाना प्रभारी ने कहा,  थाना आओ कुछ रास्ता निकालते हैं.

इसे भी पढ़ें- गुजर गये 30 से 40 साल, 128 करोड़ की योजना हो गयी 6613 करोड़ की, फिर भी काम पूरा नहीं

Trade Friends

थाना में पैसे की मांग की गयी

जब पंकज ठाकुर रात 12 बजे थाना पहुंचे, तो बड़कागांव थाना के जमादार संजय यादव ने कहस कि बड़ा बाबू को 60,000 दे दो नहीं तो केस कर देंगे, और अगर गाड़ी चलाना है तो एक ट्रैक्टर में 10,000 और एक हाईवा का  30,000 रुपया महीना लगेगा. उसके बाद ट्रैक्टर मालिक पंकज ठाकुर ने मजबूरी में अपने गांव वालों से पैसा इकट्ठा करके 50,000 रुपया थाना प्रभारी सुमन कुमार और जमादार संजय यादव को दिया. पैसा देने के बाद दोनों ट्रैक्टरों को 1 बजे रात में छोड़ दिया गया.

Related Posts

इसे भी पढ़ें- ब्रजेश ठाकुर ने मनीषा दयाल को दी पॉपुलैरिटी, प्रातःकमल अखबार में अक्सर छपती थी खबर

 किसी को बात नहीं बताने को कहा गया

पंकज ठाकुर जब ट्रैक्टर लेकर जाने लगे, तो जाते समय थानेदार ने कहा कि यह बात किसी को बताना नहीं, नहीं तो तुम पर बहुत सारा झूठा केस लगा कर जेल भेज देंगे.

 थानेदार से संपर्क नहीं हो पाया :  इस संबंध में जानकारी लेने के लिए जब थानेदार से संपर्क करने की कोशिश की गयी तो उनका फोन सेवा वंचित बता रहा था.

इसे भी पढ़ें- फादर स्टेन ने कहा – सिर्फ मिशनरी ही नहीं बल्कि सभी NGO की हो CID जांच, प्रतुल ने कहा – आखिर क्या गुल छिपा रहे हैं

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like