न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एग्जिट पोल के बाद आज विपक्षी नेताओं की बैठक, VVPAT के मुद्दे पर जाएंगे चुनाव आयोग

755

New Delhi : लोकसभा चुनाव के नतीजे आने से पहले कांग्रेस एवं दूसरे प्रमुख विपक्षी दलों के नेता मंगलवार को  मुलाकात कर राजनीतिक हालात पर चर्चा करगें से. साथ ही सरकार बनाने के दावे के लिए गैर-राजग गठबंधन बनाने की संभावनाओं पर भी बात करेंगे.

विपक्ष को एकजुट करने के प्रयास के तहत आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेलुगूदेशम पार्टी के नेता एन चंद्रबाबू नायडू ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ उनके कोलकाता स्थित आवास पर बैठक की. यह बैठक 45 मिनट तक चली. नायडू ने त्रिशंकु परिणाम की स्थिति में केंद्र में गैर-भाजपाई सरकार बनाने की संभावना पर गुफ्तगू की.

JMM

इसे भी पढ़ें- एग्जिट पोल पर ध्यान न दें, मतगणना केंद्रों पर डटे रहें : प्रियंका गांधी

अखिलेश ने भी ममता से बात कर महागठबंधन पर चर्चा की

एक सूत्र ने बताया कि बैठक में फैसला किया गया कि 23 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद त्रिशंकु परिणाम की स्थिति में महागठबंधन के अन्य भागीदारों के साथ विस्तार से चर्चा की जाएगी. साथ ही ममता बनर्जी के दिल्ली दौरे पर भी फैसला 23 मई के बाद लिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी ममता बनर्जी से फोन पर बात की और ‘महागठबंधन’ की रणनीति पर चर्चा की.

नायडू ने सोमवार को भी ममता बनर्जी से मुलाकात की थी. रविवार को वह संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से नयी दिल्ली में अलग-अलग मिले. उन्होंने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार, बसपा अध्यक्ष मायावती और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल से भी चर्चा की.

इसे भी पढ़ें- एमपी में हलचल, भाजपा ने राज्यपाल को चिट्ठी लिख विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की, कहा- अल्पमत…

VVPAT के मुद्दे पर करेंगे बात

Related Posts

#CitizenshipAmendmentBill पर बोले शशि थरूर, भारत का स्तर गिरकर पाकिस्तान का हिन्दुत्व संस्करण  हो जायेगा

नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होने का मतलब महात्मा गांधी के विचारों पर मोहम्मद अली जिन्ना के विचारों की जीत होगा.

इस बीच अखिलेश और मायावती ने भी मुलाकात की और आगे के लिए अपनी रणनीति तय की. विपक्ष के नेता चुनाव आयोग से भी मिलेंगे और वीवीपीएटी की पर्चियों का मिलान सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक करने का आग्रह करेंगे.

विपक्षी नेताओं की अनौपचारिक मुलाकात में कांग्रेस की ओर से अहमद पटेल एवं गुलाम नबी आजाद, तृणमूल कांग्रेस से डेरेक ओ ब्रायन, राकांपा के शरद पवार, माकपा के सीताराम येचुरी, भाकपा के डी राजा और बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा सहित कई नेता शामिल हो सकते हैं.

दरअसल, विपक्ष की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि हर विधानसभा क्षेत्र के तहत आने वाले किन्हीं पांच बूथों पर वीवीपीएटी पर्चियों का मिलान किया जाएगा. हालांकि कांग्रेस व कई अन्य विपक्षी दल लगातार यह मांग उठा रहे थे कि कम से कम 50 फीसदी वीवीपीएटी पर्चियों का मिलान किया जाए.

इसे भी पढ़ें- एग्जिट पोल्स में एनडीए को बहुमत, विपक्षी दलों की ईवीएम पर ठीकरा फोड़ने की तैयारी

क्या कहना है नेताओं का

हालांकि एक्जिट पोल के मद्देनजर विपक्ष ने थोड़ी सावधानी बरतते हुए कोई औपचारिक बैठक नहीं करने का फैसला किया है. कांग्रेस नेताओं ने सोनिया गांधी के दिशानिर्देश में शनिवार को बैठक की थी जहां मौजूदा राजनीतिक हालात पर चर्चा की गयी.

राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि यह सिर्फ बाजार का दबाव है. समाजवादी नेता शरद यादव भी कुछ ऐसा ही सोचते हैं. एक्जिट पोल को ‘गपशप’ बताने वाली तृणमूल कांग्रेस का कहना है कि उसके अपने आकलन के अनुसार पार्टी फिर से पश्चिम बंगाल में सभी सीटों पर जीत दर्ज कर रही है.

एक्जिट पोल की आलोचना करते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी ने दावा किया कि यह सभी फर्जी हैं और गलत तरीके से तैयार किए गए है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like