न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड : आरोपी लोकेश चौधरी का अब तक नहीं मिला सुराग

185

Ranchi : अग्रवाल ब्रदर्स हेमंत अग्रवाल और महेंद्र अग्रवाल हत्याकांड के आरोपी लोकेश चौधरी का अब तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है. अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड के मामले में अभी तक पुलिस कोई भी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है. लोकेश चौधरी कहां है, इसकी अभी तक कोई जानकारी पुलिस के हाथ नहीं लगी है और ना ही लोकेश चौधरी के निजी बॉडीगार्ड का भी अब तक कोई अता पता नहीं चल पाया है. हालांकि लोकेश चौधरी के निजी बॉडीगार्ड सुनील कुमार की पत्नी को बोकारो थर्मल से रांची लाकर पुलिस पूछताछ कर रही है.

कई लोगों से रुपया लिया है लोकेश चौधरी

मिली जानकारी के अनुसार अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड के आरोपी लोकेश चौधरी बिहार और झारखंड में कई लोगों से रुपया उधार में लिया है. 3 महीने पहले साधना न्यूज़ के बंद हो जाने के बाद 12 मार्च 2019 से फिर एक बार साधना न्यूज़ ऑन एयर करने वाला था. जिसके लिए उसने कई लोगों से उधार रुपये लिए थे.

इसे भी पढ़ें : मॉब लिचिंग : बहन के साथ हुई छेड़छाड़ का विरोध करने पहुंचे एक भाई को भीड़ ने पीटकर मार डाला, दूसरा…

Trade Friends

 पुलिस ने कार्रवाई करते हुए बैंक खातों को किया फ्रीज

अग्रवाल बंधुओं की गोली मारकर हत्या मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए लोकेश चौधरी के बैंक खातों को फ्रीज करवा दिया. ताकि उसपर पुलिस की दबिश बन सके. इसके अलावा पुलिस ने लोकेश की संपत्ति जब्त करने की तैयारी भी शुरू कर दी है.

आठ महीने पहले मिला था दो सरकारी बॉडीगार्ड

मिली जानकारी के अनुसार लोकेश चौधरी को करीब आठ महीने पहले दो सरकारी बॉडीगार्ड मिले थे. हालांकि चार महीने पहले दोनों अंगरक्षक वापस ले लिया गया था. इसके बाद निजी अंगरक्षक साथ रखा था, लेकिन इस चार महीने के भीतर आठ अंगरक्षक बदले थे. पुलिस इसका भी पता लगाने में जुटी है.

इसे भी पढ़ें : सूखाड़ प्रभावित किसानों के मुआवजे पर सरकार की बेरुखी, अब आचार संहिता का पेंच

लोकेश के बॉडीगार्ड को तलाश रही है पुलिस

रांची पुलिस हत्याकांड के मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी के निजी बॉडीगार्ड सुनील कुमार की तलाश में बोकारो थर्मल गई थी. रांची पुलिस को सूचना मिली थी कि लोकेश चौधरी का बॉडीगार्ड सुनील कुमार सात मार्च को धनबाद के रहनेवाले दोनों सगे भाई महेंद्र अग्रवाल और हेमंत अग्रवाल की हत्या के बाद से बोकारो थर्मल जीएमटी कॉलोनी स्थित अपनी ससुराल आकर रह रहा था. सूचना के आधार पर रांची के तुपुदाना थाना के अवर निरीक्षक तारीक अनवर शनिवार को बोकारो थर्मल पहुंचे और स्थानीय पुलिस की मदद से रात एक बजे सुनील कुमार की पत्नी के जीएमटी स्थित आवास पर गयी. पुलिस ने दो-तीन घंटे तक आवास की छानबीन की और कुछ कागजात आवास से लिये. रविवार को शाम चार बजे पुलिस फिर से सुनील कुमार की ससुराल गयी और उसकी पत्नी और साला को पूछताछ के लिए अपने साथ रांची ले आयी. रांची में बॉडीगार्ड की पत्नी से पुलिस पूछताछ कर रही है.

 रुपये के विवाद में हत्या

मामले पर विश्वस्त सूत्रों का कहना है कि लोकेश चौधरी और अग्रवाल ब्रदर्स के बीच पैसों का लेन-देन हुआ था. कई दिनों से अग्रवाल ब्रदर्स लोकेश से अपना पैसा वापस मांग रहे थे. लोकेश हर बार पैसा लौटाने में बहानेबाजी करता था. पैसे को लेकर दोनों पक्षों में कई बार तू-तू मैं-मैं भी हुई है. बताया जा रहा है कि हेमंत और महेंद्र ने लोकेश से 6 मार्च की शाम को बात की. लोकेश ने उन दोनों को अशोक नगर के चैनल के कार्यालय में बुलाया. जिसके बाद से ही दोनों भाई गायब चल रहे थे और 7 मार्च को दोनों भाइयों के शव साधना न्यूज के बंद कार्यालय से बरामद हुआ था.

इसे भी पढ़ें : गुजर गये एक साल: 17 IFS अफसरों ने योजनाओं पर हुए खर्च का नहीं दिया ब्योरा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like