न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अकाल तख्त प्रमुख ने कहा- RSS देश बांटने में जुटा, लगे पाबंदी, बीजेपी बोली- बयान दुर्भाग्यपूर्ण और तथ्यों से परे

297

Amritsar: राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को लेकर एक बार फिर से विवाद उठ खड़ा हुआ है. इस बार श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने आरएसएस पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है. इसके जवाब में बीजेपी ने कहा है कि उसका यह बयान दुर्भाग्यपूर्ण और तथ्यों से परे है.

ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि  मेरा मानना है कि आरएसएस जो कर रहा है वह देश में विभाजन पैदा करेगा.  संघ नेताओं द्वारा दिये जा रहे बयान देश के हित में नहीं हैं.

JMM

उन्होंने कहा कि  यहां सिख, ईसाई, यहूदी और पारसी भी रहते हैं. बहुत सारी भाषाएं बोली जाती हैं. यह कहना कि इस देश को हिंदू राष्ट्र बनाना है, ये गलत है. ऐसे बयान नहीं दिये जाने चाहिए.

उन्होंने कहा कि यह देश के लिए खतरा है. आरएसएस का बयान आया है कि यह हिंदू राष्ट्र है या हिंदू राष्ट्र बनाना है. यह ठीक नहीं है, देश के हित में नहीं है.

इसे भी पढ़ें – आखिर क्यों धनबाद के झरिया में सीएम रघुवर दास के आने से पहले पुलिस ने किया फ्लैग मार्च !

Bharat Electronics 10 Dec 2019

जब उनसे पूछा गया कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी आरएसएस से जुड़े हुए थे तो जवाब में उन्होंने कहा कि जो भी हो, यह एक देश विरोधी संगठन है जो नुकसान पहुंचायेगा और देश को तबाह कर देगा.

अकाल तख्त नेता का बयान तथ्यों से परेः बीजेपी

इधर अकाल तख्त प्रमुख के बयान पर बीजेपी ने नाराजगी जाहिरकरते हुए कहा है कि हरप्रीत का बयान दुर्भाग्यपूर्ण और तथ्यों से परे है.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता विनीत जोशी ने बयान आपत्ति जतायी और इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया. उन्होंने कहा कि अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा है कि आरएसएस पर बैन लगना चाहिए. यह बयान बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है और तथ्यों से परे है.

इसे भी पढ़ें – #Dhullu तेरे कारण: केके साइडिंग के मजदूरों ने कहा- विधायक को रंगदारी देने में ही चला जाता है पैसा

आरएसएस एक राष्ट्रवादी संगठन

विनीत जोशी ने आगे कहा कि आरएसएस एक राष्ट्रवादी संगठन है. संघ देश के लिए मर-मिटने की बात करता है. देश को तोड़ने की बात नहीं करता.

अकाली दल के प्रवक्ता की चुप्पी

इस विवाद को लेकर जब वरिष्ठ अकाली दल नेता और पार्टी प्रवक्ता डॉ. दलजीत सिंह चीमा से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि अकाल तख्त सिख धर्म की सर्वोच्च संस्था है और वह इसके जत्थेदार नेता के बयान पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते. अकाली दल ने अकाल तख्त के नेता के विवादित बयान से किनारा कर लिया है.

इसे भी पढ़ें – Giridih : #ACB ने गांवा थाना के दारोगा सतेन्द्र शर्मा को दो हजार घूस लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like