न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारत के कदम से बौखलाये पाकिस्तान को अमेरिका की नसीहत, आतंकवाद के खिलाफ करे कार्रवाई

972

Washington: कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और दो केंद्र शासित के गठन से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. इसी बौखलाहट में पड़ोसी देश ने भारत के साथ राजनयिक संबंधों को कम कर दिया है.

वहीं अमेरिका में दो प्रभावशाली डेमोक्रेटिक सांसदों ने पाकिस्तान से भारत के खिलाफ बदले की कोई भी कार्रवाई  करने से बचने और अपने देश में आतंकवादी समूहों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने की नसीहत दी है.

JMM

इसे भी पढ़ेंःपाकिस्तान ने अपने एयरस्पेस का एक कॉरिडोर किया बंद, विदेशी उड़ानों को लगेगा 12 मिनट का अतिरिक्त समय

सीनेटर रॉबर्ट मेनेंदेज और कांग्रेस सदस्य इलियट एंजेल ने बुधवार को एक संयुक्त बयान में जम्मू कश्मीर में पाबंदियों पर चिंता भी जताई.

आतंकवाद के खिलाफ कदम उठाने की नसीहत

Related Posts

#CitizenshipAmendmentBill की निंदा की #Pakistan ने, कहा, हिंदू राष्ट्र की दिशा की ओर बढ़ाया गया कदम  

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने मध्य रात्रि के बाद एक बयान जारी कर कहा, हम इस विधेयक की निंदा करते हैं.  यह प्रतिगामी और भेदभावपूर्ण है

मेनेंदेज सीनेट की विदेश संबंधों की समिति के शीर्ष सदस्य हैं, जबकि एजेंल सदन की विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष हैं. उन्होंने अपने बयान में कहा, ‘पाकिस्तान को नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ कराने में मदद समेत किसी भी तरह की बदले की कार्रवाई से बचना चाहिए. ’ साथ ही पाकिस्तान की सरजमीं पर आतंकवाद के खिलाफ ठोस कार्रवाई करनी चाहिए.

अमेरिका के हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के चेयरमैन बॉब मेनेंडेज की ओर से यह बयान जारी किया है. अमेरिका ने भारत से अपील है कि जम्मू-कश्मीर में भारत अपने नागरिकों के अधिकारों की रक्षा करे और पारदर्शिता बरते.

इसे भी पढ़ेंःतिलमिलाया पाकिस्तान,  भारत के साथ राजनयिक संबंध का दर्जा घटाया , भारतीय उच्चायुक्त को भारत लौटने को कहा  

सांसदों ने कहा कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने के नाते भारत के पास अपने सभी नागरिकों को विधानसभा की आजादी, सूचना तक पहुंच और कानून के तहत समान संरक्षण समेत समान अधिकारों की रक्षा करना तथा उनका प्रचार करने की महत्ता को दिखाने का अवसर है.

गौरतलब है कि सुरक्षा के मद्देनजर केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में अतिरिक्त सैन्य बलों की तैनाती की है. अनुच्छेद 370 पर ऐतिहासिक फैसले से पहले वहां इंटरनेट सुविधाएं और फोन सेवाएं बंद कर दी गई थीं.

वहीं पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा हटाने के भारत के कदम को एकतरफा और गैरकानूनी बताते हुए बुधवार को भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को निष्कासित कर दिया. और नयी दिल्ली के साथ राजयनिक संबंधों को कमतर कर दिया था.

इसे भी पढ़ेंः राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल कश्मीरियों के साथ शोपियां की गलियों में घूम रहे हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like