न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

निर्दोष को दोषी बनाकर कोर्ट में किया पेश, पुलिस को पड़ी जज की फटकार

845

Chatra: टंडवा थाना पुलिस के द्वारा निर्दोश युवक को दोषी बनाकर कोर्ट में पेश करने का मामला सामने आया है. युवक का नाम मनीष कुमार सिंह है. अपनी खामियों को छिपाने की नीयत से मामले के जांच अधिकारी ने असली दोषी के ढूंढने की जगह निर्दोष युवक मनीष कुमार सिंह को गिरफ्तार किया और फिर फर्जी नाम से जेल भेज दिया.

हांलाकि इस मामले का जल्द पर्दाफाश हो गया. आइओ सचिदानंद सिंह की इस हरकत के लिए जज ने कोर्ट में ही पुलिस को फटकार लगायी और युवक को छोड़ने का आदेश दिया.

JMM

इसे भी पढ़ें- #ViralAudio: कृषि मंत्री रणधीर सिंह PCC पथ के लिए मांग रहे कमीशन, कहा- 40 हजार दो और भी टेंडर निकलवा देंगे

कैसे हुआ मामले का खुलासा

टंडवा थाना की पुलिस के इस कारनामे का खुलासा तब हुआ जब गिरफ्तार युवक मनीष कुमार सिंह को जेल भेजने से पहले कोर्ट में पेश किया गया. जिसके बाद शक के आधार पर जज ने उसके दस्तावेजों की जांच की.

जांच में जो तथ्य सामने आये, यह देख कर जज को मामला समझने में देर नहीं लगी. जज ने मौके पर ही मौजूद टंडवा थाना के जांच अधिकारी पुलिस अवर निरीक्षक सचिदानंद सिंह को जमकर फटकार लगायी गयी. साथ ही गिरफ्तार युवक मनीष को तुरंत छोड़ने का भी निर्देश दिया गया.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

इसे भी पढ़ें- दामोदर नदी में भारी मात्रा में बहकर आया तेल, जामाडोबा जल संयत्र ठप, 12 लाख लोगों पर मंडराया जल संकट

निर्दोष को थी जेल भेजने की तैयारी

जानकारी के अनुसार टंडवा थाना में दर्ज कांड संख्या 112/18 में कार्रवाई करते हुए मामले के आइओ सचिदानंद सिंह ने आरोपी को जेल भेजने के लिए अदालत में पेश किया था.

इस केस में कुंमडांग गांव निवासी लेखु सिंह को जेल भेजना था, लेकिन केस आइओ ने लेखु के बजाय गांव के ही मनीष कुमार सिंह नाम के निर्दोष युवक को गिरफ्तार कर उसका चालान कर दिया था. इतना ही नहीं आइओ ने मामले में मनीष के नाम के बाद उर्फ लेखु लिख दिया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like