न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन के खुलासे का ATS करेगी जांच, कई सफेदपोश चेहरे होंगे बेनकाब

750

Ranchi: रिमांड के दौरान संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन ने एटीएस को कई सफेदपोश लोगों के नाम बताये हैं जो उसकी मदद करते थे. कलीमुद्दीन ने जिन लोगों के नाम बताये हैं उनका एटीएस सत्यापन करेगी. सत्यापन के बाद कई कई चेहरों के बेनकाब होने की आशंका जतायी जा रही है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एटीएस ने सात दिनों के लिए कलीमुद्दीन को रिमांड पर लिया था. इस दौरान कलीमुद्दीन ने अलकायदा के झारखंड लिंक के संबंध में कई जानकारी उपलब्ध कराई है.

JMM

संगठन को आर्थिक सहायता देने वाले सफेदपोशों और झारखंड के कोल्हान से लेकर प्रदेशभर में जुड़े सदस्यों की जानकारी दी है. उसने अपने बेटे हुजैफा के कोलकाता ठिकाने के बारे में भी बताया है.

कलीमुद्दीन ने मानगो और कपाली के जिन युवाओं को संगठन से जोड़ा है उन लोगों के नाम भी बताये हैं.

इसे भी पढ़ें- #J&K: प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष के भाई समेत 12 लोगों पर आतंकियों से साठगांठ का आरोप, मामला दर्ज

Bharat Electronics 10 Dec 2019

जेल भेजा गया कलीमुद्दीन

आतंकी संगठन अलकायदा से जुड़े होने के आरोप में गिरफ्तार मानगो निवासी मौलाना कलीमुद्दीन को एटीएस एमजीएम अस्पताल लेकर पहुंची थी. जहां मेडिकल जांच के बाद उसे जमशेदपुर व्यवहार न्यायालय में पेश किया गया.

कोर्ट से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. जेल प्रशासन ने सुरक्षा कारणों से उसे घाघीडीह सेंट्रल जेल के विशेष सेल में भेज दिया था.

इसे भी पढ़ें- #BiharFlood: बाढ़ के सवाल पर भड़के नीतीश बाबू, पूछा- क्या पटना के कुछ हिस्सों में पानी ही एकमात्र समस्या

कलीमुद्दीन ने पूछताछ के दौरान किये कई अहम खुलासे

मिली जानकारी के अनुसार एटीएस के द्वारा किए गये पूछताछ में कलीमुद्दीन ने खुलासा किया है कि उसने जमशेदपुर के मानगो, काली, पोटका, सरायकेला, चांडिल, रांची और अन्य इलाकों के कई युवकों को आतंकवादी संगठन से जोड़ा है.

21 सितंबर की रात उसे जमशेदपुर से कोलकाता जाने के दौरान टाटानगर स्टेशन से गिरफ्तार किया गया था. उसका सहयोगी ओड़िशा का अब्दुल रहमान कटकी सामी के साथ तिहाड़ जेल में बंद है.

कटकी की गिरफ्तारी दिसंबर 2015 में ओड़िशा से हुई थी और उसने भी पूछताछ में जमशेदपुर के मानगो में रहने वाले कलीमुद्दीन का नाम लिया था.

इसे भी पढ़ें- बिहार: नीतीश ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का किया निरीक्षण, कहा जल्द सामान्य होंगे हालात

कई राज्यों की एटीएस टीम ने की कलीमुद्दीन से पूछताछ

झारखंड के अलावा बंगाल, ओड़िशा और आंध्रप्रदेश की एटीएस टीम ने भी मौलाना कलीमुद्दीन से पूछताछ की है. उससे अलकायदा के नेटवर्क और उसको फैलाने में कलीमुद्दीन की भूमिका को लेकर पूछताछ हुई है.

कलीमुद्दीन ने एटीएस की टीमों को बताया कि अलकायदा से जुड़ने वालों को सऊदी अरब से काठमांडू के रास्ते पाकिस्तान भेजा जाता है. वहां से प्रशिक्षण लेकर वे लोग भारत लौटते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like