न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीएड एडमिशन काउंसिलिंग : प्राइवेट बीएड कॉलेज टेंट लगा कर छात्रों को कर रहे मैनेज, किसकी अनुमति से लगाया टेंट रांची विवि को नहीं है जानकारी

1,007

Ranchi: मोरहाबादी के आर्यभट्ट सभागार में इन दिनों राज्य के बीएड कॉलेज में नामांकन के लिए काउंसिलिंग चल रही है. काउंसिलिंग कैंपस के बाहर 50 से अधिक निजी बीएड कॉलेज अपना-अपना टेंट लगाये हुए हैं. विडंबना यह है कि ये कॉलेज किसकी अनुमति से यहां टेंट लगाये हुए हैं इसकी जानकारी रांची विवि को भी नहीं है. डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि से लेकर यूजी हॉस्टल तक बीएड कॉलेजों के टेंट ऐसे लगे हुए हैं जैसे बीएड का मेला लगा हुआ हो.

इसे भी पढ़ें – …तो क्या कैदी मनोज सिंह की बच सकती थी जान, रुक सकता था जमशेदपुर जेल में गैंगवार

JMM

कूपन देकर छात्रों को कर रहे मैनेज

आर्यभट्ट सभागार कैंपस के बाहर टेंट लगा कर बैठे हुए निजी बीएड कॉलेज के प्रतिनिधि छात्रों को तरह-तरह के ऑफर देकर काउंसिलिंग में उनके संस्थान को चुनने के लिए कह रहे हैं. निजी बीएड कॉलेज के प्रतिनिधियों के द्वारा काउंसिलिंग के लिए जा रहे छात्रों को कूपन दिया जा रहा है. वे छात्रों से कह रहे हैं कि भीतर काउंटर पर बैठे आदमी को कूपन दे देना वो आपको कॉलेज अलॉट कर देंगा.

इसे भी पढ़ें – मेन रोड की सड़क पर पार्किंग वसूलने वाला निगम न्यूक्लियस मॉल के सामने क्यों नहीं वसूलता पार्किंग शुल्क

टेंट लगा कर छात्रों को मैनेज करने के संबंध में पूछे जाने पर काउंसिलिंग कमिटी के चेयरमैन डॉ संजय मिश्रा ने कहा कि मेरी जिम्मेदारी काउंसिलिंग के आयोजन की है. अब काउंसिलिंग कैंपस के बाहर क्या हो रहा है, इसकी जानकारी मुझे नहीं है. इसी मुद्दे पर जब रांची विवि के वीसी डॉ रमेश पांडेय से बात करने की कोशिश की गयी तो उनसे संपर्क नहीं हो पाया.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

कंबाइंड एग्जामिनेशन के नाम पर झारखंड कंबाइंड ने की कमाई

दो सत्र में आयोजित हो रहे बीएड एडमिशन काउंसिलिंग में शामिल होने आये विद्यार्थियों ने कहा कि कंबाइंड बीएड एग्जामिनेशन के नाम पर सरकार ने केवल कमाई की है. जानकारी के मुताबिक केवल काउंसिलिंग रजिस्ट्रेशन से 80 लाख रुपये की कमाई हुई है. छात्रों का कहना है सरकारी बीएड कॉलेज की सीटें भर चुकी हैं. अब जो भी मिल रहा है वो निजी बीएड कॉलेज मिल रहा है. सभी निजी बीएड कॉलेजों की फीस अलग-अलग है. ऐसे में कंबाइंड एग्जामिनेशन का मतलब क्या रह जाता है.

वोकेशनल के छात्रों को हो रही परेशानी

काउंसिलिंग में एक हजार से अधिक ऐसे छात्र शामिल हुए हैं, जिन्होंने वोकेशनल विषय से स्नातक किया है. काउंसिलिंग में उन्हें सीट अलॉट कर दिया गया, लेकिन जब वे नामांकन के लिए कॉलेज जा रहे हैं तो कॉलेज नामांकन लेने से इनकार कर रहे हैं. सरकारी बीएड कॉलेजों से यह शिकायत सबसे ज्यादा आ रही है. इस संबंध में काउंसिलिंग कमिटी के चेयरमैन डॉ संजय मिश्रा ने कहा कि केवल वोकेशनल छात्रों की समस्या ही नहीं है. हमने संबंधित विभाग को कई बार पत्राचार कर वोकेशनल कोर्स, इन साइड आउट साइड छात्र के अलावा इडब्ल्यूएस कोटा सीट के बारे गाइडलाइन मांगी, लेकिन अब तक किसी तरह का जवाब नहीं मिला है. ऐसे में काउंसिलिंग नोटिफिकेशन में जो बातें कही गयी थीं, उसी के अनुसार काउंसिलिंग आयोजित की जा रही है.

इसे भी पढ़ें – लोहरदगा : मुठभेड़ में JJMP के तीन उग्रवादियों को पुलिस ने किया ढेर, दो AK-47 बरामद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like