न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बाबा रामदेव की पतंजलि फिर विवादों में, अमेरिका ने कहा- गलत जानकारी देकर निर्यात किये शर्बत

118

New Delhi :  बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद अब एक नये कानूनी पचड़े में फंस सकती है. दरअसल अमेरिका के स्वास्थ्य नियामक यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (यूएसएफडीए) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है पतंजलि के दो शर्बत उत्पादों पर लगे लेबल पर जो अतिरिक्त औषधीय एवं आहार संबंधी दावे किये गये हैं, वो भारत में बिकनेवाले शर्बत के बोतलों में तो पाये गये.

लेकिन अमेरिका में निर्यात किये जाने वाली बोतलों पर किये दावे कम पाये गये. साथ ही यूएसएफडीए ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि निर्यातित और घरेलू उत्पादों के लिए कंपनी के उत्पादन और पैकेजिंग क्षेत्र अलग-अलग हैं.

इसे भी पढ़ें – आश्चर्य : अशोक नगर कॉलोनी वासियों ने रेन वाटर हार्वेस्टिंग कराया,  लेकिन निगम मांग रहा डेढ़ गुना होल्डिंग टैक्स

अमेरिका में सख्त है खाद्य सुरक्षा कानून

Trade Friends

गौरतलब है कि अमेरिका के खाद्य सुरक्षा कानून भारतीय कानूनों की तुलना में ज्यादा सख्त हैं. यदि पाया जाता है कि कंपनी ने अमेरिका में गलत तरीके से प्रचारित उत्पाद बेचे हैं. तो यूएसएफडीए उसे उस उत्पादन का आयात बंद करने के लिए चेतावनी-पत्र जारी कर सकता है.

साथ ही  उस उत्पाद की पूरी खेप को जब्त कर भी सकता है. संघीय अदालत से अमेरिका कंपनी के खिलाफ रोक का आदेश भी पारित करा सकता है और आपराधिक मुकदमा भी शुरू कर सकता है. जिससे उसपर पांच लाख अमेरिकी डॉलर तक का जुर्माना लगाया जा सकता है और कंपनी के अधिकारियों को तीन साल तक की जेल की सजा भी हो सकती है.

इसे भी पढ़ें –शत्रुघ्न सिन्हा ने इंदिरा से की प्रियंका गांधी की तुलना, कहा- संभालें अध्यक्ष पद

पतंजलि के प्रवक्ता नहीं दिया जवाब

मॉरीन ए वेंटजेल नाम के यूएसएफडीए के एक जांच अधिकारी ने पिछले साल सात और आठ मई को पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के हरिद्वार संयंत्र की इकाई-तीन का निरीक्षण किया था. वेंटजेल ने अपनी निरीक्षण रिपोर्ट में कहा था कि मैंने पाया कि घरेलू (भारत) और अंतरराष्ट्रीय (अमेरिका) बाजारों में बेल शर्बत और गुलाब शर्बत उत्पाद पतंजलि के ब्रॉंड नाम से बेचे जा रहे हैं और भारतीय लेबल पर औषधीय और आहार संबंधी अतिरिक्त दावे हैं.

वहीं जब इस बार में पतंजलि ग्रुप के प्रवक्ता से समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा की ओर से रिपोर्ट पर सवाल किया गया तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया.

इसे भी पढ़ें –‘बैंक अधिकारी लगातार तीन मिस कॉल करें, तो थाना प्रभारी समझें डकैत ने बंधक बना रखा है’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like