न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बैंक ऑफ महाराष्ट्र की स्थिति अच्छी, लेख के तथ्य गलत और अफवाह फैलाने जैसाः जीएम (पीएमपी)

759

“7360 करोड़ के घाटे में बैंक ऑफ महाराष्ट्र, हो सकते हैं PMC जैसे हालात” शीर्षक से newswing.com पर प्रकाशित Girish Malviya के आलेख पर बैंक के जेनरल मैनेजर (प्लानिंग, मार्केटिंग एंड पब्लिसिटी) ने प्रतिकार भेजा है.

उन्होंने न्यूज विंग को एक ई-मेल भेजा है. जिसमें लेख को गलत सूचनाओं वाला और बैंक के बारे में अफवाहें फैलाने जैसा बताया है.

न्यूज विंग यह स्पष्ट करना चाहता है कि लेख Girish Malviya का है और न्यूज विंग ने उनके फेसबुक वॉल से लेकर इसे प्रकाशित किया था. इसके बावजूद पत्रकारिता की नीतियों का पालन करते हुए हम यहां बैंक द्वारा अंग्रेजी में भेजे गये पत्र का सक्षर हिन्दी अनुवाद प्रकाशित कर रहे हैं.

ई-मेल में बैंक की तरफ से कहा गया है कि बैंक ऑफ महाराष्ट्र एक राष्ट्रीयकृत बैंक है. जिसमें भारत सरकार की हिस्सेदारी 92% से ज्यादा है. बैंक का देश के 29 राज्यों और पांच केंद्रशासित राज्यों में 1832 ब्रांच हैं.

Trade Friends

बैंक अच्छी तरह से पूंजीकृत है और 27 मिलियन से अधिक ग्राहकों का मजबूत वफादार ग्राहक आधार है. ग्राहकों की संख्या लगातार बढ़ रही है. लेकिन आपके लेख की सूचनाएं आमलोगों को बैंक के प्रति गुमराह करने वाली है.

लेख में जो सूचनाएं और रिफरेंस है, वह बिना पूरी जानकारी व विवरणों को जाने बिना निकाला गया निष्कर्ष है.

बैंक ने घाटे के लेखा-जोखा के लिए केवल भारतीय रिज़र्व बैंक से संपर्क किया था. ऐसा नहीं करने से बैंक की वित्तीय स्थिति सुदृढ़ और अपरिवर्तित रहेगी.

कुछ अन्य बैंकों, जिनके खिलाफ आरबीआइ ने धोखाधड़ी के मामले में कार्रवाई की है, उनसे बैंक ऑफ महाराष्ट्र का तूलना करना एक भ्रम फैलाने जैसा है. गलत है. लेख में बैंक ऑफ महाराष्ट्र से जुड़े धोखाधड़ी से संबंधित जो आंकड़े दिये गये हैं, वह भ्रामक व गलत हैं.

डिफॉल्टिंग रियलिटी सेक्टर की कंपनियों के लिए हमारा एक्सपोजर मामूली है और बैंक की बैलेंस शीट और प्रॉफिटेबिलिटी पर बहुत कम असर पड़ता है.

बैंक की तरफ से आगे यह कहा गया है कि 01 अक्टूबर 2019 को आरबीआइ ने भारतीय बैंकिंग प्रणाली की सुरक्षा और स्थिरता को लेकर एक प्रेस बयान जारी किया है.

जिसमें आम लोगों को विश्वास दिलाया गया है कि भारतीय बैंकिंग प्रणाली सुरक्षित और स्थिर है. और अफवाहों की वजह से घबराने की जरुरत नहीं है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like