न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारो : 2013 में जीएम का उद्घाटन किया हुआ माराफारी उद्यान बना मजाक

शुक्रवार को फिर रेलवे कॉलोनी में करेंगे जीएम चिल्ड्रेन पार्क का उद्घाटन

593

Bokaro : वर्ष 2013 में दक्षिण पूर्व रेलवे के तत्कालीन जीएम एके वर्मा ने बोकारो रेलवे स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया में माराफारी उद्यान का उद्घाटन किया था. अब उद्यान लोगों के बीच माखौल का विषय बन गया है. उस पार्क में न तो एक भी नये पौधे लगे और न ही आम लोगों टहलने एवं कुर्सी आदि की व्यवस्था रेलवे की ओर से की गयी. उद्घाटन के दौरान लोगों से कहा गया था कि इस पार्क के बन जाने से रेलवे स्टेशन पर पहुंचने वाले यात्रियों के लिए हर वक्त खुला रहेगा और लोग खाली समय में पार्क का भम्रण कर सकेंगे. लेकिन ऐसा पांच सालों तक नहीं हुआ. पार्क से पूर्व इस स्थान पर ऑटो का पड़ाव हुआ करता था, जिसे रेलवे की ओर से नये स्थान पर हटाकर पार्क बनाया गया.

अब पार्क की स्थिति ऐसी है कि उसमें चारों ओर झाड़ियां उग आयी है और शुक्रवार को जीएम के बोकारो दौरे को लेकर झाड़ियों को रेलवे की ओर से हटाया गया है. वहीं अब वर्तमान जीएम से रेलवे की ओर से रेलवे कॉलोनी के बीच पुराने चिल्ड्रेन पार्क का जीर्णोद्धार कर पुनः लाखों रुपये खर्च कर उसका उद्घाटन कराने की तैयारी हो रही है. जबकि कॉलोनीवासियों की माने तो पार्क में बरसात के दिनों में नाली का पानी जमा हो जाता है. पानी के कारण लोग अपने बच्चों को वहां खेलने नहीं भेज पाते हैं. ऐसे में न सिर्फ उद्घाटन के नाम पर खानापूर्ति हो रही है. जो फिर से लूट के भेट चढ़ जायेगी.

Jmm 2

टाइल्स बदलने का हो रहा है खेल

दक्षिण पूर्व रेलवे के जीएम दौरे को लेकर स्टेशन के मुख्य द्वार, प्लेटफार्म नंबर दो पर बने शौचालय और सर्कुलेंटिंग एरिया में बने शौचालय में सिर्फ टाइल्स और मार्बल बदलने का खेल चल रहा है. कुछ वर्ष पूर्व ही प्लेटफार्म नंबर दो पर शौचालय का निर्माण हुआ था, लेकिन उसके टाइल्स को उखाड़ कर पुनः नया टाइल्स लगाया जा रहा है. ठीक उसी तरह रेलवे स्टेशन पर चढ़ने वाली सीढ़ियों के भी मार्बल को भी बदल दिया गया है, इन सारी योजनाओं के पीछे सिर्फ रेलवे के पैसे की बंदरबांट हो रही है, जो बार जीएम दौरे को लेकर रेलवे अधिकारियों और कर्मचारियों में चर्चा का विषय बना हुआ है.

तलगड़िया में ओवर ब्रिज की मांग है वर्षों पुरानी

बोकारो रेलवे क्षेत्र में तलगड़िया स्टेशन है. इस स्टेशन से होकर कई एक्सप्रेस, पैसेंजर ट्रेन और मालगाड़ियां गुजरती हैं. लेकिन इस स्टेशन पर एक अदद रेलवे ओवर ब्रिज नहीं होने से आम यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है. इस स्टेशन पर दो ही प्लेटफार्म है. एक प्लेटफार्म पर अगर मालगाड़ी खड़ी हो जाये, तो लोगों को उसके नीचे से पार करना होता है.

Related Posts

पलामू : निर्वस्त्र अवस्था में महिला का शव बरामद, दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

जानकारी के अनुसार महिला रामगढ़ प्रखंड अंतर्गत नावाडीह पंचायत क्षेत्र की निवासी थी.  महिला की पुत्री ने बताया कि उसकी मां सोमवार शाम चार बजे बाजार के लिए निकली थी

Bharat Electronics 10 Dec 2019

इस समस्या पर रेलवे के अधिकारियों का ध्यान नहीं है. दो वर्ष यहां पर ओवर ब्रिज बनाने का काम शुरू हुआ था, लेकिन वह अधर में ही लटक गया और समस्या पूर्व जैसी ही बनी रह गयी. जीएम इसी रुट होकर आद्रा से बोकारो पहुंचेंगे, लेकिन इस समस्या पर उनका ध्यान जायेगा या नहीं, या फिर रेलवे अधिकारी ध्यान दिलायेंगे या नहीं. यह कहा नहीं जा सकता. जबकि इस स्टेशन के प्लेटफार्म की लंबाई रेलवे की ओर से बढ़ाई जो रही है, लेकिन सबसे अहम ओवर ब्रिज, जिस पर उनका ध्यान नहीं है.

बोकारो क्लास ए दर्जे का स्टेशन,पर ट्रेनों की सुविधा नहीं

बोकारो रेलवे स्टेशन को क्लास ए दर्जे में शामिल है. जबकि यहां पर प्लेटफार्म की संख्या तीन है. वहीं बोकारो भुवनेश्वर गरीब रथ, बोकारो-रांची, बोकारो-हावड़ा पैसेंजर और आद्रा के लिए मेमू पैसेंजर के अलावे एक भी दूसरी ट्रेनें नहीं खुलती. जबकि बोकारो आद्रा डीवीजन में आता है. यहां से आद्रा आने-जाने के लिए दिन में कोई ट्रेन नहीं है, जिससे रेलवे कर्मचारियों को विशेष परेशानी होती है. वहीं यहां से जमेशदपुर के लिए कोई सीधी रेल सेवा नहीं है. इसी तरह वर्षों से बोकारो तलगड़िया रेलवे लाइन होकर नयी ट्रेन चलाने की मांग भी धनबाद-चंद्रपुरा रुट के बंद होने के बाद भी की जा रही है, लेकिन रेलवे की ओर से किसी भी प्रकार की कोई पहल नहीं की गयी.

कई दिनों तक इस रुट होकर एक्सप्रेस ट्रेन चली भी, लेकिन उसे किसी भी स्टेशन पर रोका नहीं गया, जबकि इस रुट पर इस्पात नगर, चास और बांधडीह रेलवे स्टेशन करीब दो दशक से बने हुए है. इस रुट पर एक-दो पैसेंजर ट्रेन के चलने से आम लोगों को राहत मिलेगी, लेकिन इस दिशा किसी भी रेलवे अधिकारियों ने पहल नहीं की. वहीं रेलवे स्टेशन के ऑटो पड़ाव पर किसी भी तरह की कोई सुविधा नहीं है. यहां पर यात्री शेड और शौचालय बनाने का आश्वासन तीन माह पूर्व डीआरएम निरीक्षण के दौरान दे चुके हैं, लेकिन इस पर काम नहीं शुरु हो सका.

एक घंटा 20 मिनट के लिए बोकारो में रुकेंगे जीएम

दपू रेलवे के जीएम दोपहर 1.20 बजे बोकारो पहुंचेंगे. यहां पर भोजन के बाद 2 बजे स्टेशन का प्लेटफार्म, सर्कुलेटिंग एरिया, रेलवे कॉलोनी का निरीक्षण करेंगे. वहीं रेलवे कॉलोनी में बने चिल्ड्रेन पार्क का उद्घाटन करेंगे. यहां से लौटकर इलेक्ट्रोनिक्स इंटर लांकिंग एवं प्रदर्शनी में भाग लेंगे और बोकारो 3.10 बजे रेलवे स्टेशन से 3.10 बजे पुरुलिया की ओर निकल जायेंगे. इस दौरान वे 120 किलोमीटर गति के रेलवे ट्रैक का निरीक्षण भी करेंगे. इस कार्यक्रम को लेकर रेलवे की ओर से पूरी तैयारी कर ली गयी है. एक दिन पूर्व आद्रा के डीआरएम बोकारो पहुंच कर पूरे कार्यक्रम का जायजा भी ले चुके है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like