न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
Browsing Category

LITERATURE

नोबल पुरस्कार विजेता #OlgaTokarczuk की दो कविताएं

2018 के लिए नोबल पुरस्कार विजेता ओल्गा तकारचुक की दो कविताएं आपके लिए. पूर्वी यूरोप की स्लाव भाषाओं में कविता आज भी तुकान्त ही लिखी जाती है. अतुकान्त या मुक्त छन्द में वे ही कवि कविता लिखते हैं, जो यूरोप में चर्चित होना चाहते हैं. तकारचुक…

हत्यारा और तानाशाह शीर्षक पर हरिओम राजोरिया की तीन कविताएं

हत्यारा और तानाशाह शीर्षकों से हिन्दी में वर्षों से कवितायें लिखी जा रही हैं. जिस तरह तानाशाह बदल रहा है उसी तरह इन कविताओं में भी बदलाव आ रहा है. दुख ये है कि आज तानाशाह और हत्यारे पर कविता लिखने की ज़रूरत और ज़्यादा बढ़ गयी है. ऐसे ही…

निदा फाजिली की गजल और कविता कृष्‍णपल्‍लवी की कविता- तानाशाह जो करते हैं

गजलनिदा फाजिलीअपना ग़म ले के कहीं और न जाया जाये घर में बिखरी हुई चीज़ों को सजाया जायेजिन चराग़ों को हवाओं का कोई ख़ौफ़ नहीं उन चराग़ों को हवाओं से बचाया जायेख़ुद-कुशी करने की हिम्मत नहीं होती सब में और कुछ दिन अभी औरों को सताया…

#MobLynching पर कविता लिख सोशल मीडिया पर छाये नवीन चौरे

होशंगाबाद (मप्र) के रहने वाले नवीन चौरे इन दिनों साहित्यिक हलचल को लेकर सोशल मीडिया तक की सुर्खियों में हैं. वे आइआइटीयन हैं. उन्होंने दिल्ली आइआइटी से बीटेक किया है. लेकिन उनके सुर्खियों में रहने की वजह यह नहीं बल्कि मॉब लिचिंग पर उनकी…

आज के समय को परिभाषित करतीं और आज के ‘राजा’ पर तीन कविताएं

बोधिसत्‍व की कविताकलजुग का एक राजा थाराजा क्या था बाजा थाहरदम निज गुन गाता थाभारत भाग्य विधाता थानंगे भूखे चिरकुट जन मेंसुबरन सूट दिखाता थाक्या दूं क्या दूं बोलो बोलोयह मैं यह मैं गाता थाकभी डरा सा कभी…

मारबतः प्रतिरोध का एक ऐसा अनोखा पर्व है जो पूरी दुनिया में केवल नागपुर में मनाया जाता है

Sharad Kokaashनागपुर का ‘मारबत’ नामक यह एक ऐसा पर्व है जिसमें भ्रष्टाचार, झूठ, बेईमानी, शराबखोरी, अश्लीलता जैसी बुराइयों के पुतले जलाये जाते हैं. यह एक ऐसा पर्व है जो ब्रिटिश शासन का साथ देने वाले गद्दारों के खिलाफ विरोध प्रकट करने के लिए…

प्रसिद्ध लेखिका अमृता प्रीतम की 100वीं जयंती, गुगल ने डूडल बनाकर किया याद

NewsWing Desk: पंजाब की सबसे लोकप्रिय लेखकों में से एक रहीं अमृता प्रीतम को उनकी 100वीं जन्मतिथि पर याद किया जा रहा है. विश्व के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने डूडल बनाकर मशहूर भारतीय पंजाबी कवि अमृता प्रीतम को उनके 100वें जन्मदिन पर याद किया…

मिट्टी की सोंधी गंध में लिपटी नाहीद साहिबा की नागपुरी कविता

गांव कर दशासुना हय गांव काले...?सोचत ही...ना झिंगुर कर झिंग-झिंग...?ना बेंगकर टर्रर्र-टर्रर्र....?ना फन जोरल उफनत नदी!ना ढापल करिया बदरी....!ना डाँड़-टिकुर हरियर!भेत भूइयाँ बजंर हियां.सुखल-पखल रोपा खेत,बनत…

फिलीस्‍तीनी कवि महमूद दरवेश की कविता- हमारे देश में

(रामकृष्णा पाण्‍डेय द्वारा अनूदित फिलीस्‍तीनी कविताओं के संकलन ‘इन्तिफ़ादा’ से)हमारे देश मेंलोग दुखों की कहानी सुनाते हैंमेरे दोस्त कीजो चला गयाऔर फ़िर कभी नहीं लौटाउसका नाम………नहीं उसका नाम मत लोउसे…

मनोज रूपड़ा की कहानी – ईश्वर का द्वंद्व

Manoj Rupraउस स्त्री का जीवन दो पहलुओं में बंटा हुआ था. उसने दो प्रेम किए और दो अलग-अलग पिताओं की दो अलग-अलग संतानों को जन्म दिया.वह जब बहुत छोटी थी तब से जॉब और रोजर से प्रेम करती थी. वह बचपन से बिना किसी भेदभाव के अपनी सब चीजें दोनों…