न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नक्सली कुंदन पाहन को राहतः 2009 नामकुम मुठभेड़ केस में साक्ष्य के अभाव में CBI कोर्ट ने किया बरी

1,484

Ranchi: कभी झारखंड में आतंक का पर्याय मानेजाने वाले नक्सली कुंदन पाहन को सीबीआई कोर्ट से राहत मिली है. साल 2009 में नामकुम थाना क्षेत्र के लाली गांव में पुलिस और माओवादियों के बीच हुए मुठभेड़ केस में साक्ष्य के अभाव में कोर्ट नक्सली कुंदन पाहन को बरी कर दिया है.

इस मामले की सुनवाई सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एसके सिंह की अदालत में हुई. अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद नक्सली कुंदन पाहन को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया.

इसे भी पढ़ेंःराहुल गांधी का दावा- लोस चुनाव हार रही BJP, सेना की राजनीतिकरण पर उठाये सवाल

बता दें कि इस मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से 9 गवाहों की गवाही दर्ज कराई गई. वहीं बचाव पक्ष की ओर से 4 गवाहों की गवाही हुई थी.

कोर्ट ने फैसला को रखा था सुरक्षित

2 मई को पुलिस और माओवादिओं के बीच मुठभेड़ मामले में कोर्ट में सुनवाई हुई थी. अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था. इस मामले की सुनवाई के लिए अगली तारीख 4 मई निर्धारित की गई थी.

मुठभेड़ पूरी तरह से बताया गया फर्जी

मिली जानकारी के अनुसार, कोर्ट में बहस के दौरान अभियोजन पक्ष ने अपनी दलील रखते हुए बताया कि मुठभेड़ रात में हुई थी. जिसके कारण वह किसी भी माओवादी को पहचान नहीं पाये.

Related Posts

आचार संहिता के बीच मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित स्क्रीनिंग कमेटी कर रही जनसरोकार के कार्य

स्क्रीनिंग कमेटी विभागों के प्रस्ताव पर निर्वाचन आयोग द्वारा जारी आदर्श आचार संहिता के अनुदेशकों के आलोक में समीक्षा करती है.

वहीं बचाव पक्ष के अधिवक्ता प्रभु दयाल किशोर ने कोर्ट को बताया कि यह मुठभेड़ पूरी तरह से फर्जी है. उस रात किसी भी तरह की कोई मुठभेड़ नहीं हुई थी.

इसे भी पढ़ेंःBJP के लिए बेहतर होता अगर कांग्रेस-AAP का गठबंधन हुआ होता तो : हर्षवर्धन

पिछली सुनवाई के दौरान नक्सली कुंदन पाहन की गवाही दर्ज कराई गई थी. जिस दौरान कुंदन पाहन ने न्यायालय को बताया था कि इस मुठभेड़ में वह शामिल नहीं था. इस मामले में उसकी कोई संलिप्तता नहीं है. इसी मामले पर 2 मई को कोर्ट में सुनवाई हुई थी. जिसमें अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया है था.

क्या है मामला

2009 में नामकुम थाना क्षेत्र के लाली क्षेत्र में पुलिस और माओवादिओं के बीच मुठभेड़ का मामला सामने आया था. इस मुठभेड़ में कई पुलिसकर्मी और माओवादी घायल हुए थे.

मुठभेड़ के दौरान किसी भी माओवादी की पुलिस की ओर से गिरफ्तारी नहीं की गई थी. इस मुठभेड़ को लेकर पुलिस ने कुंदन पाहन समेत सात लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया है. जिनमें से कुंदन पाहन को छोड़ सभी अभियुक्त साक्ष्य के अभाव में पहले ही बरी हो चुके हैं.

इसे भी पढ़ेंः नामचीन आरके स्टूडियो की जगह बनेगा शॉपिंग प्लाजा, गोदरेज प्रापर्टीज ने खरीदा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like