न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चंद्रप्रकाश चौधरी होंगे गिरिडीह से उम्मीदवार, लेकिन जानिए क्या हुआ आजसू के संसदीय बोर्ड में

1,423

Ranchi: गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र से आजसू के टिकट पर कौन लड़ेगा इसकी औपचारिक घोषणा हो गयी. पहले से ही तय नाम पर मुहर भी लगी. लेकिन जानने वाली बात यह है कि औपचारिक घोषणा से पहले चले करीब दो घंटे की संसदीय बोर्ड की बैठक में क्या हुआ. किसने क्या कहा, किसने किसका समर्थन किया और किसने किसका नाम आगे बढ़ाया.

चलती बोर्ड की बैठक में जिस तरीके से कई सदस्यों ने अपनी बात रखी, उससे पार्टी की लोकतांत्रिक छवि साफ हो रही थी. लेकिन एक बात सदस्यगण यह भी कह रहे थे कि आखिर में पार्टी सुप्रीमो की ही बात मान्य होगी. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. तो फिर हुआ क्या?

इसे भी पढ़ेंः पलामू : सड़क हादसे में भाजपा आइटी सेल के जिला संयोजक समेत दो की मौत

Trade Friends

राजकिशोर की दिली चाह थी कि सुदेश हो उम्मीदवार

बोर्ड की बैठक में टुंडी विधायक राज किशोर महतो की दिली चाहत थी कि पार्टी सुप्रीमो सुदेश महतो ही गिरिडीह लोकसभा से चुनाव लड़े. चलती बोर्ड की बैठक में उन्होंने साफ लफ्जों में कहा कि सुदेश महतो को गिरिडीह से चुनाव लड़ना चाहिए. लेकिन पार्टी सुप्रीमो इस पर फैसला लें. वहीं जुगसलाई विधायक रामचंद्र सहिस ने विधायक राजकिशोर महतो की बात काट दी.

इसे भी पढ़ेंः राजधानी के अधिकतर डॉक से चार्टर्ड साइकिलें गायब

ऐसा मौका दोबारा नहीं आयेगाः रामचंद्र

जुगसलाई विधायक रामचंद्र ने कहा कि ऐसा मौका दोबारा नहीं आयेगा. पार्टी अगर इस सीट पर परचम लहराती है तो देश भर में आजसू का नाम होगा. पहली बार पार्टी से कोई संसद पहुंचेगा. ऐसे में चंद्रप्रकाश चौधरी से बेहतर विकल्प और कोई नहीं हो सकता है. अगर सिर्फ चुनाव लड़ने की बात है तो पार्टी में कई नेता हैं, जो उम्मीदवारी कर सकते हैं. लेकिन जीत शायद नहीं दिला पाये. इसलिए चंद्रप्रकाश चौधरी को ही गिरिडीह से टिकट मिलना चाहिए. बाद में उन्होंने फिर कहा कि आखिरी फैसला सुप्रीमो का ही मान्य होगा.

इसे भी पढ़ेंः राजद की बागी ‘अन्नपूर्णा’ बीजेपी से ‘चतरा’ में देख रही हैं जीत का समीकरण, ‘कोडरमा’ से ‘प्रणव’ का हो सकता है रास्ता साफ

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like