न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Chatra: टंडवा कोल परियोजनाओं में ट्रक और हाइवा मालिकों की हड़ताल जारी, कोयला ढुलाई ठप

1,039

Chatra: जिले के टंडवा कोल परियोजनाओं में कोयले की ढुलाई ठप पड़ गयी है. दरअसल, ट्रांसपोर्टिंग कंपनियों पर बकाया भाड़ा (20 करोड़) भुगतान समेत अन्य मांगें पूरी नहीं होने के कारण ट्रक और हाइवा मालिकों ने ट्रांसपोर्टिंग कंपनी और सीसीएल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

ट्रक और हाइवा मालिकों ने इस दौरान मगध और आम्रपाली में कोयला ढोने से साफ इंकार कर दिया है. कोयला ढोने से इनकार करने के बाद सीसीएल की परेशानी बढ़ गई है. इससे सीसीएल को करोड़ो का नुकसान उठाना पड़ रहा है. दोनों परियोजनाओं के कांटा घरों में सन्नाटा पसरा हुआ है.

JMM

इसे भी पढ़ेंःतीन करोड़ में खरीदी गयी थीं रोड स्वीपिंग मशीनें, उद्घाटन के बाद भी फांक रही धूल

कोयले की ढुलाई हुई ठप

ट्रक और हाइवा मालिकों के कोयला ढोने से साफ इनकार करने के बाद मगध और आम्रपाली कोल परियोजना में ढुलाई पूरी तरह ठप हो गई है. सात हजार से अधिक ट्रक और हाइवा से कोयले की ढुलाई नहीं हो पायी है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

गौरतलब है कि टंडवा कोल परियोजना में हर रोज लगभग 40 से 45 हजार टन कोयला डिस्पैच होता है. इसमें शिवपुर साइडिंग की 20 हजार टन शामिल है. शिवपुर साइडिंग में कोयले की ढुलाई तो हुई पर अन्य जगहों पर नहीं हो पाई. जबकि मगध परियोजना में भी लगभग 20 हजार टन कोयले की ढुलाई होती है,जो नहीं हो पायी.

सीसीएल को करोड़ों नुकसान

ट्रक और हाइवा मालिकों के द्वारा मगध और आम्रपाली में कोयला ढोने से साफ इंकार करने के बाद से सीसीएल को करोड़ों का नुकसान उठाना पड़ रहा है. दोनों कोल परियोजनाओं के कांटा घरों में सन्नाटा पसरा हुआ है. हाइवा ऑनर एसोसिएशन का दावा है कि मगध और आम्रपाली में एक भी ट्रक और हाइवा से कोयले की ढुलाई नहीं हुई. बताया जा रहा है कि पिछले डेढ साल से एसोसिएशन अपनी मांगों को लेकर आंदोलन तो करता है पर आजतक एक भी मांग पूरी नहीं हुई.

इसे भी पढ़ेंः#ODF पलामू का सच : यहां रेलवे ट्रैक ही है ‘सामुदायिक शौचालय’, ट्रेन से कटकर चली गयी थी तीन की जान 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like