न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस अनिरुद्ध बोस बने सुप्रीम कोर्ट के जज

386

Ranchi: झारखंड हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस अनिरुद्ध बोस सुप्रीम कोर्ट के जज बने गये है. उनके साथ तीन और जजों को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाया गया है. बॉम्‍बे हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस बीआर गवई, हिमाचल प्रदेश के चीफ जस्टिस सूर्यकांत और गुवाहाटी के चीफ जस्टिस एएस बोपन्‍ना को सुप्रीम कोर्ट का जज नियुक्‍त किया गया है. गुरुवार को सभी चार जज शपथ ग्रहण करेंगे.

इसे भी पढ़ें – राज्य में ऑनलाइन म्यूटेशन सिस्टम हुआ फेल, 45609 आवेदन हैं लंबित

Jmm 2

13 अप्रैल को चीफ जस्टिस अनिरुद्ध बोस के नाम को मंजूरी प्रदान की गयी थी

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने 13 अप्रैल को झारखंड हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस अनिरुद्ध बोस के नाम को मंजूरी प्रदान कर दी थी. सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने देश के कई जजों के नाम पर विचार किया था. मेरिट, वरीयता और अन्य मामलों पर विचार के बाद इन चार जजों के नाम पर सहमति प्रदान की. झारखंड हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस अनिरुद्ध बोस 19 जनवरी 2004 को कलकत्ता हाइकोर्ट के जज नियुक्त हुए थे. 11 अगस्त 2018 को वह झारखंड हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बने थे.

इसे भी पढ़ें – जानिए, मारवाड़ी कॉलेज की छात्राएं कैंपस में किन कारणों से हो रहीं शर्मिंदा

सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीशों के कुल 31 पद स्वीकृत हैं

वर्तमान में सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीशों के कुल 31 पद स्वीकृत हैं. इनमें से वर्तमान में 27 न्यायाधीश कार्यरत हैं. चार न्यायाधीशों के पद रिक्त हैं. झारखंड के चीफ जस्टिस बोस देश के विभिन्न हाइकोर्ट के जजों की संयुक्त वरीयता लिस्ट में 12वें नंबर पर थे. जबकि चीफ जस्टिस बोपन्ना वरीयता सूची में 38वें नंबर पर थे. वर्ष 2004 में कोलकाता हाइकोर्ट के जज बने थे. चीफ जस्टिस अनिरुद्ध बोस का जन्म 11 अप्रैल 1959 को हुआ था. विधि की डिग्री हासिल करने के बाद उन्होंने वर्ष 1985 में वकालत का लाइसेंस लिया था. इसके बाद उन्होंने वकालत शुरू की. 19 जनवरी 2004 को उन्हें कोलकाता हाइकोर्ट का न्यायाधीश नियुक्त किया गया. 11 अगस्त 2018 को झारखंड हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस बनाये गये थे.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

इसे भी पढ़ें – बिजली संकट पर मंत्री सरयू राय ने सीएम को घेरा, कहा- 30 लाख नये कनेक्शन का बहाना भयावह और निर्लज्ज मजाक

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like