न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CityManager नियुक्ति प्रक्रिया : न स्थानीयता का हुआ पालन न #EWS को मिला #reservation

5,559

Kumar Gaurav

Ranchi : नगर विकास विभाग में 17 सिटी मैनेजरों की बहाली की जानी है. 15 सितंबर को परीक्षा ले ली गयी है. इस परीक्षा का परिणाम एक दिन बाद ही जारी कर दिया गया. 18 सितंबर को मत्स्य निदेशालय सभागार में इंटरव्यू लिया गया. इस प्रक्रिया में छात्र लगातार अनियमितता बरतने का आरोप लगा रहे हैं. छात्रों का कहना है कि परीक्षा प्रक्रिया में ना तो स्थानीयता नियमों का पालन किया गया है और ना ही आर्थिक रूप से गरीब स्वर्ण को आरक्षण दिया गया है.

छात्रों का कहना है इंटरव्यू में आये छात्रों में से मेरिट में टॉप आठ को राज्य से बाहर का बताया जा रहा है. कार्मिक विभाग के अनुसार संविदा पर नियुक्ति में भी स्थानीयता का पालन किया जाना है.

इसे भी पढ़ें : #JharkhandCongress : एक परिवार से एक ही व्यक्ति लड़ेगा विधानसभा चुनाव! शीर्ष पदों पर बैठे नेताओं को टिकट नहीं  

Trade Friends

सवर्ण आरक्षण का नहीं मिला है लाभ

सिटी मैनेजर की नियुक्ति में कुल आठ सिटी जनरल कैटेगरी की थी. आठ में से एक सीट गरीब सवर्ण कोटे के लिए आरक्षित था. परीक्षा में भाग लिये छात्रों का कहना है कि जब एक सीट गरीब सवर्ण के लिए आरक्षित है तो उसी हिसाब से मेरिट भी जारी किया जाना था.

पर इंटरव्यू के लिए जारी मेरिट में एक भी इस कोटे के छात्र नहीं थे. इसका जमकर विरोध छात्रों ने किया. छात्रों का कहना है कि निदेशक मृत्युंजन वर्णवाल कहते हैं कि न्यूनतम अंक प्राप्त नहीं किया था. जबकि विज्ञापन में साफ लिखा गया था कि अंक के हिसाब से टॉप तीन छात्रों को मेरिट में लिया जाना था.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह : दर्जन भर मौजों के रैयतदारों की जमाबंदी रद्द करने की अनुशंसा, खरीद-बिक्री पर ‘प्रतिबंध’

टॉप आठ में तीन छात्र उत्तर प्रदेश के

सिटी मैनेजर के इंटरव्यू में शामिल टॉप आठ में से तीन छात्र उत्तर प्रदेश के हैं. जबकि तीन अभ्यर्थियों को बिहार का बताया जा रहा है. छात्रों ने इसको लेकर अपनी शिकायत कार्मिक और नगर विकास विभाग में भी दर्ज कराया है पर किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की.

नगर विकास विभाग में एक अन्य परीक्षा भी काफी दिनों से नहीं ली गयी. कनीय अभियंता की परीक्षा के लिए छात्र दो साल से इंतजार कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : #JharkhandElection: विपक्षी दलों पर मनोवैज्ञानिक दबाव बना आसान जीत तलाश रही बीजेपी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like