न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सोहराय भवन CNT उल्लंघन मामला : 20 दिन बाद भी राजू उरांव तक नहीं पहुंचा नोटिस

सांसद समीर उरांव के भाई अनिल उरांव ने भी इसी उरांव परिवार से ली है जमीन, परिवार के पास घर को छोड़ अलग से कोई जमीन नहीं, दाई का काम कर होता है गुजारा

1,159

Ranchi : सीएनटी एक्ट का उल्लंघन कर जमीन खरीद के मामले में पूर्व मूख्यमंत्री हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन और जमीन बेचने वाले राजू उरांव को शनिवार को नोटिस जारी किया गया था जिसकी पुष्टि डीसी राय महिमापत रे ने की थी. अपर समाहर्ता रांची के द्वारा जारी किये गये नोटिस में 28 जुलाई को दोनों पक्षों को अपना पक्ष रखने का आदेश दिया गया था. लेकिन इस मामले में राजू उरांव के पास अब तक अपर समाहर्ता का कोई पत्र नही मिला है.

 

राजू उरांव ने कहा, ”हमलोगों को भी अखबार के माघ्यम से ही नोटिस के बारे में जानकारी मिली है. जिस दिन को उपस्थित होने के लिए कहा गया है वह रविवार का दिन पड़ता है. ऐसे में क्या उपायुक्त कार्यालय रांची के द्वारा कहीं जमीन मलिकों के साथ मजाक तो नही किया जा रहा है?”

उरांव परिवार की सदस्य नीतू ने कहा कि एक ओर भाजपा नेता समीर उरांव ने नौकरी का प्रलोभन देकर अनिल उरांव अपने भाई के नाम परिवार की जमीन हड़प ली. अब परिवार के पास सिर्फ घर की जमीन बची है. सोहराय भवन भी परिवार की जमीन पर ही बना है.

Trade Friends

उपायुक्त कार्यालय से मात्र पांच किलोमीटर की दूरी पर राजू उरांव का घर है. ऐसे में 6 जुलाई को जारी किया गया नोटिस 26 जुलाई तक न पहुचने से सिस्टम पर बड़ा सवाल खड़ा होना स्वाभविक है.

इसे भी पढ़ें : सरकार के ढुलमुल रवैये से लाखों मासूमों व गर्भवती महिलाओं के सामने मंडरा रहा निवाले का संकट

क्या है मामला

बता दें कि हरमू रोड स्थित सोहराय भवन निर्माण के मामले में सरकार ने कार्रवाई का आदेश दिया है. इस संबंध में 20 मई 2019 को राजस्व निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग ने रांची कमिश्नर को पत्र लिखा था.

पत्र में संलग्न जांच रिपोर्ट और महाधिवक्ता की राय के आधार पर जरूरी कार्रवाई करके विभाग को सूचित करने को कहा गया था. इसी पर कार्रवाई करते हुए अपर समाहर्ता रांची ने क्रेता और विक्रेता को नोटिस जारी किया है.

कल्पना सोरेन के नाम पर है जमीन

जानकारी के मुताबिक, हरमू में सोहराय भवन जिस जमीन पर बना है, उसका डीड हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन के नाम से है. कल्पना सोरेन के नाम से खरीदी गयी करीब 55 डिसमिल जमीन पर सोहराय भवन बना हुआ है.

आरोप है कि जमीन  सीएनटी एक्ट का उल्लंघन कर शीतल उरांव के पोते राजू उरांव से खरीदी गयी. बाद में उस पर सोहराय भवन बनाया गया.

इसे भी पढ़ें : तीन साल में 23 गुना रिटर्न देने का दावा कर लोगों से पैसे इन्वेस्ट करा रहा झारखंड सरकार से MoU करने वाला SkyWay Group

SGJ Jewellers

मामले में महाधिवक्ता दे चुके हैं मन्तव्य

सरकार ने मार्च महीने में इस मामले में महाधिवक्ता से राय मांगी थी. महाधिवक्ता ने कल्पना सोरेन के द्वारा खरीद की गयी जमीन को सीएनटी एक्ट का उल्लंघन बताया था जिसके बाद सरकार के स्तर पर कार्रवाई शुरू की गयी.

रामकुमार पाहन व अन्य ने की थी शिकायत

उल्लेखनीय है कि नियमों का उल्लंघन करके आदिवासी जमीन खरीदने और उस पर सोहराय भवन का निर्माण करने की शिकायत सरकार के पास की गयी थी. भाजपा के अनुसूचित जनजाति मोर्चा के अध्यक्ष रामकुमार पाहन व अन्य के द्वारा शिकायत की गयी थी.

kanak_mandir

इसे भी पढ़ें : JCECEB का कारनामा : आवेदन किया मेडिकल काउंसलिंग का, कंफर्मेशन मिला इंजीनियरिंग काउंसलिंग का

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like