न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Coal_india_limited : हड़ताल से देश भर में लगभग 400 करोड़ का उत्पादन ठप, राज्य में 75 करोड़ का उत्पादन प्रभावित

राजमहल से 60 कर्मियों को किया गया गिरफ्तार

1,964

Ranchi:   केंद्रीय कैबिनेट का निर्णय सौ प्रतिशत FDI निवेश के विरोध में कोल कर्मियों की देशव्यापी हड़ताल मंगलवार को हुई. यह एक दिवसीय है. जिसमें देशभर से लगभग तीन लाख कर्मचारी हड़ताल में रहे. यह पहली बार है जब कोल इंडिया के स्थायी, अस्थायी कर्मचारियों के साथ आउटसोर्सिंग कर्मियों ने भी हड़ताल में हिस्सा लिया.

ऐसे में देश भर में कोयला खनन और ढुलाई का काम बाधित रहा. एक अनुमान के अनुसार देशभर में एक दिन में लगभग 2.5 मिलियन टन कोयला खनन किया जाता है. प्रति मिलियन टन की आमदनी लगभग 150 करोड़ है. ऐसे में एक दिन में लगभग 350 से 400 करोड़ के करीब कोल इंडिया को नुकसान हुआ. नुकसान झेलने वाली कंपनियों में सीसीएल, बीसीएल और ईसीएल प्रमुख हैं.

JMM

ऑल इंडिया कोल वर्कर्स फेडरेशन के महासचिव डीडी रामानंदन ने बताया कि कोल इंडिया से सरकार को अधिक मुनाफा होता है. इसके बाद भी कैबिनेट में फैसला लिया गया गया कि कोल इंडिया में सौ प्रतिशत FDI  निवेश कर दिया जायेगा. सरकार इसे भी निजी हाथों में दे देना चाहती है. जो गलत है.

इसे भी पढ़ेंः Breaking :  सीएम #RaghuwarDas का आवास घेरने जा रहीं आगनबाड़ी सेविकाओं पर पुलिस ने किया बल प्रयोग, देखें वीडियो

झारखंड में लगभग 75 करोड़ का काम रुका

राज्य की प्रमुख कोल कंपनियों में सीसीएल, बीसीसीएल और ईसीएल हैं. लगभग 75 करोड़ का उत्पाद देशव्यापी हड़ताल से प्रभावित हुआ. हड़ताल में शामिल कुल कोल कर्मियों को देखें तो इनकी संख्या सीसीएल में 40 हजार और बीसीसीएल में 55 हजार है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

एनसीओईए के महासचिव आरपी सिंह ने बताया कि राज्य में सुदूर खनन क्षेत्रों में कार्य ठप है. जिसमें मगध, पिपरवार, सीडब्ल्यूएस बड़काकाना, कुजू, रजरप्पा आदि हैं. इन्होंने बताया कि ईसीएल की एक माइंस को छोड़ कर सभी माइंस बंद हैं. इस दौरान उत्पाद से लेकर डिस्पैच तक सभी प्रभावित है. इसमें पारा मेडिकल कर्मियों को हड़ताल मुक्त रखा गया.

इसे भी पढ़ेंः alexa.com रैंकिंग में देश में 18वें रैंक पर पहुंचा newswing.com

राजमहल से 60 कर्मी हुए गिरफ्तार

प्रदर्शन कर रहे राजमहल के 60  कर्मियों को गिरफ्तार किया गया. राजमहल की चित्रा एसपी माइंस के पास गिरफ्तारी हुई. यह माइंस ईसीएल की है. सीसीएल कार्यालय के पास सीसीएल कोलियरी कर्मचारी संघ के बैनर तले कर्मचारियों ने प्रदर्शन भी किया.

इनकी प्रमुख मांगों में कोल कंपनियों को सौ प्रतिशत FDI  करने की निर्णय सरकार वापस लेना व आठ कोल कंपनियों को मिला कर एक करना आदि हैं.

इसे भी पढ़ेंः #StartupPolicy : झारखंड में चयनित 49 में 15 उद्यमियों को प्रोटोटाइप ग्रांट, अब तक सिर्फ एक को ही मिला बाजार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like