न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आम्रपाली, मगध कोल परियोजना में फर्जी पेपर के जरिए कोयला चोरी जारी, CCL कर्मी की मिलीभगत से खेल जारी

93

Chatra :  जिला के टंडवा थाना क्षेत्र स्थित संचालित होने वाली आम्रपाली और मगध कोल परियोजना में सीसीएल के निम्न स्तर के कर्मचारी और अधिकारी की मिलीभगत से फर्जी पेपर के जरिए कोयला चोरी का खेल चल रहा है. समय-समय पर पुलिस का कार्रवाई से कुछ दिनों के लिए यह कारोबार रुक जाता है.

लेकिन कुछ ही दिनों के बाद फिर से कोयला चोरी का खेल शुरू हो जाता है. सीसीएल अधिकारी व कोल माफिया की मिलीभगत से अवैध तरीके से कोयला चोरी हर दिन जारी है. आम्रपाली और मगध कोल परियोजना क्षेत्र से प्रतिदिन कोयले की हेरा-फेरी का मामला सामने आ रहा है.

Jmm 2

इसे भी पढ़ें – मेडिकल कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति करेगा #JPSC, निकाला आवेदन

नेटवर्क बनाकर धड़ल्ले से चोरी करवाते हैं कोयला

मगध और आम्रपाली कोल परियोजना कोयला चोरी का अड्डा बन चुका है. इसपर लगाम लगाने के लिए पुलिस लाख प्रयास करे. लेकिन सीसीएल के कुछ बाबू पुलिस की आंखों में धूल झोंककर नेटवर्क बनाकर धड़ल्ले से चोरी करवाते हैं.

और सीसीएल के अधिकारी कानों में तेल डालकर आराम से सोते रहते हैं. आम्रपाली में दो दिन पूर्व चोरी के कोयला लदा तीन ट्रक के जब्त होने के मामले में टंडवा पुलिस ने सीसीएल के लोडिंग मुंशी बिनोद राम समेत तीन कांटा बाबुओं को गिरफ्तार कर जेल भेजा है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

कार्रवाई के बाद रूकता है फिर हो जाता है खेल शुरू

फर्जी पेपर के जरिए कोयला चोरी करने के मामले में पुलिस जब कार्रवाई करती है और चोरी के कोयला लदे ट्रक को जब्त करती है. तो उसके बाद कुछ दिनों के लिए यह चोरी का खेल रुक जाता है.

लेकिन जैसे ही मामला शांत होता है, फिर से कोयला चोरी करने का काम शुरू हो जाता है. और फर्जी पेपर बनाकर फिर से कोयला चोरी का काम शुरू हो जाता है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, सीसीएल के निम्न स्तर कर्मचारी और अधिकारी के द्वारा कोल माफिया से फर्जी पेपर के जरिए ट्रक में कोयला लोड करवाने की एवज में प्रति ट्रक 30 हजार रुपया लिया जाता है. जिसका ये लोग आपस में बंदरबांट कर लेते हैं.

इसे भी पढ़ें – रोचक होने वाली है कोडरमा विधानसभा की फाइटः ‘विपक्ष’ कमजोर, ‘बीजेपी’ की अपनी लड़ाई, ‘आप’ का डेव्यू

जानिए कैसे होती है कोयले की चोरी

Related Posts

पलामू : निर्वस्त्र अवस्था में महिला का शव बरामद, दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

जानकारी के अनुसार महिला रामगढ़ प्रखंड अंतर्गत नावाडीह पंचायत क्षेत्र की निवासी थी.  महिला की पुत्री ने बताया कि उसकी मां सोमवार शाम चार बजे बाजार के लिए निकली थी

आम्रपाली और मगध कोल परियोजना से कोयले की चोरी दो तरीके से होती है. जिनमें पहला तरीका है सीसीएल का फर्जी पेपर बनाकर कोयला की चोरी करना. गौरतलब है कि सीसीएल के निम्न स्तर के कर्मचारी और अधिकारियों के द्वारा कोल माफिया से मिलीभगत कर कोयला संबधित बने फॉरमेट व डाटा इंट्री आदि की फर्जी कागजातों बनाया जाता है.

जिसपर सीसीएल का चोरी किया हुआ होलोग्राम चिपका दिया जाता है और फर्जी हस्ताक्षर करवाकर कोयला लदे ट्रकों को पास करवा लिया जाता है.

वहीं दूसरा चोरी का तरीका ये है कि जब कोल परियोजना से ट्रक कोयला लोड करके रेलवे साइडिंग में गिराने जाता है, तो इसी क्रम में कोल माफिया द्वारा ट्रक में लदे कोयले को कहीं अज्ञात जगह पर गिरा दिया जाता है.

और उसके एवज में ट्रक में कोयले का डस्ट और निम्न स्तर का कोयला लोड करके उसे रेलवे साइडिंग में गिरा दिया जाता है.

हाल के वर्षों में फर्जी पेपर के जरिए कोयला चोरी का हुआ है खुलासा

4 अक्टूबर 2018 : लातेहार पुलिस और खनन विभाग ने संयुक्त रूप से टीम गठित कर कोयले के अवैध कारोबार का बड़ा खुलासा किया था. इस मामले में करवाई करते हुए कोयला लदे 14 हाइवा  जब्त किए थे. कोयला लदे खड़े हाइवा में जब पेपर की जांच की गई तो उनके माइनिंग पेपर्स में गड़बड़ी मिली.

 

1 दिसंबर 2018: तीन ट्रक मगध कोल परियोजना क्षेत्र से कोयला लोड कर माइंस क्षेत्र से बाहर निकल रहे थे. पुलिस ने तीनों ट्रकों को कब्जे में ले लिया और जांच पड़ताल की. जांच में कागजात फर्जी निकले.

 

14 अक्टूबर 2019 : चतरा के टंडवा स्थित मगध कोल परियोजना में फर्जी कागजात के बल पर कोयला ले जा रहे चार कोयला लदे ट्रकों को पकड़ा गया था.

 

19 अक्टूबर 2019:  टंडवा पुलिस ने आम्रपाली कोल परियोजना से फर्जी पेपर के जरिए चोरी के कोयला ले जा रहे तीन ट्रकों को जब्त किया था. इस मामले में पुलिस ने सीसीएल के लोडिंग मुंशी सहित तीन कांटा बाबू को गिरफ्तार कर जेल भेजा.

इसे भी पढ़ें – #Patna: धनतेरस पर बिकने आयी 50 लाख की 250 #LED_TV चोरी, CCTV में कैद वारदात

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like