न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#InfrastructureProjects : 355 परियोजनाओं की लागत 3.88 लाख करोड़ रुपये बढ़ी : रिपोर्ट

मंत्रालय की जुलाई, 2019 की रिपोर्ट के अनुसार 1,623 परियोजनाओं की मूल लागत 19,33,390.22 करोड़ रुपये थी. अब इन परियोजनाओं के पूरा होने की अनुमानित लागत 23,21,502.84 करोड़ रुपये पर पहुंच गयी है

77

NewDelhi :  150 करोड़ रुपये या उससे अधिक लागत की 355 बुनियादी ढांचा क्षेत्र की परियोजनाओं की लागत में 3.88 लाख करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई है. एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी है.  विलंब और अन्य कारणों से ऐसा हुआ है.

जान लें कि  सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय 150 करोड़ रुपये या उससे अधिक की लागत की परियोजनाओं की निगरानी करता है. कुल 1,623 परियोजनाओं में से 355 की लागत बढ़ गयी  है,  जबकि 552 में विलंब हुआ है.

JMM

मंत्रालय की जुलाई, 2019 की रिपोर्ट के अनुसार 1,623 परियोजनाओं की मूल लागत 19,33,390.22 करोड़ रुपये थी. अब इन परियोजनाओं के पूरा होने की अनुमानित लागत 23,21,502.84 करोड़ रुपये पर पहुंच गयी है. इस तरह परियोजनाओं की कुल लागत में 3,88,112.62 करोड़ रुपये या 20.07 प्रतिशत का इजाफा हुआ है .रिपोर्ट में कहा गया है कि जुलाई, 2019 तक इन परियोजनाओं पर कुल 9,47,571.45 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं.

इसे भी पढ़ें : #BSNL के 40,000 से अधिक कर्मचारी  #VRS का विकल्प अपना चुके हैं : प्रबंध निदेशक

Related Posts

#EconomySlowdown : कुमार मंगलम बिड़ला की नजर में  देश की अर्थव्यवस्था रसातल के करीब पहुंच गयी

 बिड़ला मीडिया के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. इस क्रम में उन्होंने कहा कि व्यापार में राजकोषीय सूझ-बूझ जरूरी है

552 परियोजनाओं में प्रत्येक में औसतन 29.07 माह का विलंब हुआ 

यह परियोजनाओं की अनुमानित लागत का 40.82 प्रतिशत बैठता है. रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि परियोजनाओं में देरी का आकलन उनको पूरा करने की नयी समयसीमा से किया जाये, तो विलंब वाली परियोजनाओं की संख्या घटकर 451 रह जायेगी.

विलंब वाली परियोजनाओं में से 187 में एक से 12 महीने, 121 में 13 से 24 महीने, 132 में 25 से 60 महीने और 112 में 61 या उससे अधिक माह का विलंब है. इन 552 परियोजनाओं में प्रत्येक में औसतन 29.07 माह का विलंब हुआ है.

इसे भी पढ़ें : #EconomicSlowdown: अगले 5 महीनों में टाटा मोटर्स 30 दिन और टाटा कमिंस 15 दिन का लेगी ब्लॉक क्लोजर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like